VIDEO. आठ मार्च को विधानसभा घेरेंग प्रदेश के सरपंच, पाक्षिक बैठक का करेंगे बहिष्कार

(sarpanch will protest on assembly) राजस्थान के सीकर शहर में सरपंच संघ की बैठक बुधवार को रामलीला मैदान स्थित एक होटल में हुई। जिलाध्यक्ष हनुमान प्रसाद की अध्यक्षता में हुई बैठक में सरपंचों की वित्तीय समस्याओं पर मंथन हुआ।

By: Sachin

Published: 03 Mar 2021, 09:30 PM IST

सीकर. राजस्थान के सीकर शहर में सरपंच संघ की बैठक बुधवार को रामलीला मैदान स्थित एक होटल में हुई। जिलाध्यक्ष हनुमान प्रसाद की अध्यक्षता में हुई बैठक में सरपंचों की वित्तीय समस्याओं पर मंथन हुआ। मामले में पांच मार्च को पाक्षिक बैठक का बहिष्कार कर आठ मार्च को विधानसभा के घेराव का फैसला भी लिया गया। इस दौरान प्रदेश सरपंच संघ के सचिव जगमाल सिंह यादव ने कहा कि सरकार ने दो साल से ग्राम पंचायतों का वित्तीय प्रबंधन पूरी तरह बिगाड़ दिया है। एकबारगी सरपंचों के पीडी खाते भी बंद कर दिए। जिन्हें तो प्रदेशभर में विरोध के बाद मजबूरन सरकार को वापस शुरू करना पड़ा लेकिन, दो साल से वित आयोग की राशि नहीं जारी करने से ग्रामीण विकास की व्यवस्था अब भी बेपटरी है। उन्होंने कहा कि पंचायतों को 2950 करोड़ की राशि अटकी पड़ी है। केंद्र सरकार की एक किश्त भी राज्य सरकार ने कोरोना महामारी के नाम पर दबा ली। जिससे गांवों का विकास रुक गया है। मांग की कि सरकार पांचवें वित आयोग का रुपया जारी करने के साथ छठे वित आयोग का गठन करे। जब तक गठन ना हो तब तक पांच हजार करोड़ का अतिरिक्त बजट जारी करें। वरना पांच मार्च को पूरे राजस्थान में सरपंच पाक्षिक बैठक का बहिष्कार करेंगे। इसके बाद 8 मार्च को विधानसभा का घेराव करेंगे। 20 सुत्रीय मांग रख सरपंचों ने इस दौरान मांग पूरी नहीं होने पर प्रदेश में उपचुनाव में कांग्रेस का विरोध करने की चेतावनी भी दी। बैठक में संतोष मूंड, बलराम भाखर, कैलाश बिजारणियां, राजकुमार सैनी, सागरमल यादव, रामकुमार पचार, दिनेश आर्य, मुरारी भंावरिया, कमलेश, झाबर ओला, शारदा देवी सहित काफी संख्या में सरपंच मौजूद रहे।


पटवारियों की पेन डााउन हड़ताल तीसरे दिन भी जारी

इधर, सीकर के अजीतगढ़ में अपनी विभिन्न मांगों को लेकर पटवारियों की पेन डाउन हड़ताल आज तीसरे दिन भी जारी रखी। राजस्थान पटवार संघ के आव्हान पर पटवारियों ने आज भी कोई कार्य नहीं किया। इस दौरान पटवार घरों पर ताले लटके रहे। जिसके चलते काफी लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ा। सबसे ज्यादा परेशानी प्रतियोगी परीक्षार्थियों को विभिन्न प्रमाण पत्र नहीं बनने से हुई। गौरतलब है कि चार दिवसीय हड़ताल के तहत पटवारी गुरुवार को भी हड़ताल पर रहेंगे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned