प्रदेश में दो हजार स्थानों पर लगेगी सोलर फ्लोर किट

सीकर. गांव-ढाणियों के लोगों को शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराने के लिए अब जलदाय विभाग ने प्रदेश में दो हजार स्थानों पर सोलर डीएफयू (डी फ्लोरीडेशन यूनिट) लगाने की तैयारी कर ली है।

By: Sachin

Published: 19 Oct 2020, 12:38 PM IST

सीकर. गांव-ढाणियों के लोगों को शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराने के लिए अब जलदाय विभाग ने प्रदेश में दो हजार स्थानों पर सोलर डीएफयू (डी फ्लोरीडेशन यूनिट) लगाने की तैयारी कर ली है। इसके तहत पहले चरण में पायलट प्रोजेक्ट के तहत 300 स्थानों पर डी प्लोरीडेशन यूनिट लगाकर नवाचार किया जाएगा। इसके बाद योजना का विस्तार करते हुए धीरे धीरे अन्य स्थानों पर भी सोलर यूनिट का काम शुरू किया जाएगा। खास बात ये भी है कि प्रदेश में अब डीएफयू को सोलर से जोडऩे की भी तैयारी कर ली गई है। गौरतलब है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत नेे भी बजट में दो हजार से अधिक स्थानों पर सोलर डीएफयू लगाने की घोषणा की थी। लेकिन कोरोना की वजह से यह योजना गति नहीं पकड़ पा रही थी। पिछले दिनों कांग्रेस के जन घोषणा पत्र के मुद्दे पर चर्चा के दौरान भी इस पर चर्चा हुई थी। इसके बाद जलदाय मंत्री व विभाग के प्रमुख शासन ने सभी अभियंताओं को इस योजनाओं के लक्ष्य पूरा करने के निर्देश दिए है। जिसके चलते यह योजना अब जल्द ही अमलीजामा पहनने की उम्मीद बढ़ गई है।

मोबाइल एप से होगी निगरानी

इस योजना की निगरानी प्रदेशभर में मोबाइल एप के जरिए होगी। विभाग ने 1250 से अधिक स्थान भी तय कर लिए है। इन कार्यो के लिए संबंधित फर्मो को कार्यदेश भी जारी हो चुकी है। इसके अलावा प्रदेश के जिन क्षेत्रों में बिजली की समस्या है वहां अब जलदाय विभाग की ओर से सौलर आधारित ट्यूबवैल लगाई जाएगी।

दिसम्बर तक काम पूरा करने के निर्देश
जलदाय विभाग ने सभी कंपनियों को दिसम्बर तक काम पूरा करने के निर्देश दिए है। विभाग के अधिकारियों ने बताया कि नेशनल वाटर क्वालिटी सब मिशन के तहत सर्वे कराया गया था। जिन क्षेत्रों में फ्लोराइड काफी ज्यादा है और जहां अभी तक फ्लोराइड पेयजल के लिए डीएफयू नहीं लगे है, उनका पहले चरण में चयन किया गया है।

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned