दूसरे जिलों से घर वापसी का सपना देखने वाले शिक्षकों की आस जल्द होगी पूरी

दूसरे जिलों से घर वापसी का सपना देखने वाले शिक्षकों की आस जल्द होगी पूरी

Gaurav kanthal | Updated: 31 May 2019, 05:20:00 PM (IST) Sikar, Sikar, Rajasthan, India

तबादला सीजन से पहले शिक्षा विभाग में बड़े स्तर पर फेरबदल होगा। नामांकन के अनुपात में शिक्षक कम होने पर पद सृजित होंगे। ऐसे में दूसरे जिलों से घर वापसी का सपना देखने वाले शिक्षकों की आस पूरी होगी।

सीकर. प्रदेश में नामांकन के अनुपात में बिगड़ा शिक्षकों का गणित अब जल्द ठीक होगा। शिक्षा विभाग ने इसके लिए गुरुवार से कवायद शुरू कर दी है। विभाग 11 जून तक अधिशेष शिक्षकों को नए विद्यालय आवंटित करेगा। शिक्षा विभाग की इस पहल से विद्यार्थियों को सीधे तौर पर फायदा मिलेगा। शिक्षा राज्य मंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा ने अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए है कि स्टाफिंग पैटर्न का काम निश्चित समय सीमा में ही पूरा होना चाहिए, ताकि विद्यार्थियों की पढ़ाई प्रभावित नहीं हो। तबादला सीजन से पहले विभाग में बड़े स्तर पर फेरबदल होगा। नामांकन के अनुपात में शिक्षक कम होने पर पद सृजित होंगे। ऐसे में दूसरे जिलों से घर वापसी का सपना देखने वाले शिक्षकों की आस पूरी होगी।
विद्यार्थियों की पढ़ाई नहीं होगी प्रभावित
स्टापिंग पैटर्न इस बार गर्मियों की छुट्टियों में ही किया जा रहा हैं। इससे विद्यार्थियों के अध्ययन पर कोई असर नहीं पड़ेगा। 2016 से स्टापिंग पैटर्न शुरू किया गया था। इसके बाद से लगातार यह स्कूल खुलने के बाद होता था। इससे प्रदेशभर के स्कूलों में नामांकन अभियान प्रभावित होता। स्टापिंग पैटर्न में नामांकन के आधार पर शिक्षकों के पदों का आवंटन होगा और काउंसलिंग के जरिए अधिशेष शिक्षकों का पदस्थापन होना है। इस बार सरकार ने शिक्षकों की मांग के आधार पर कुछ परिवर्तन किए हंै।
कमेटी में इनको किया शामिल
विभाग ने स्टाफिंग पैटर्न प्रक्रिया को समय पर पूरा करने के लिए दस सदस्यीय समिति का गठन किया है। कमेटी में स्कूल शिक्षा के संयुक्त निदेशक, प्रांरभिक शिक्षा के शासन उप सचिव, मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी सीकर, जिला शिक्षा अधिकारी झुंझुनूं, ब्लॉक शिक्षा अधिकारी गोगुन्दा, अतिरिक्त मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी लक्ष्मणगढ़, शिक्षक अनुसंधान संस्थान प्रतिनिधि, अनुभाग अधिकारी प्रांरभिक शिक्षा, सत्यापन प्रभारी संयुक्त निदेशक प्रांरभिक शिक्षा व संस्थापन प्रभारी जिला शिक्षा अधिकारी झुंझुनूं को सदस्य के तौर पर शामिल किया है।
उत्कृष्ट स्कूलों में अतिरिक्त पद
नए स्टॉपिंग पैटर्न के तहत जिले के प्रत्येक उत्कृष्ट विद्यालय में एक अतिरिक्त शिक्षक का पद सृजित किया जाएगा। सीकर जिले में कुल 305 उत्कृष्ट विद्यालय है। दांतारामगढ़ ब्लॉक में सबसे ज्यादा उत्कृष्ट विद्यालय है। नव क्रमोन्नत सभी मिडिल स्कूलों में प्रधानाध्यापक का पद सामाजिक विज्ञान व सामान्य शिक्षक का दिया जाएगा।
रियल टाइम नामांकन से होगी पदों की गणना
पहले पदों की गणना विद्यालयों में 30 सितंबर के नामांकन के आधार पर होती थी। लेकिन अब आवंटन के समय से पूर्व माह के नामांकन के आधार पर होगी। 150 से अधिक नामांकन वाले प्राथमिक विद्यालयों में सामाजिक विज्ञान का प्रधानाध्यापक पद आवंटित किया जाएगा।
शारीरिक शिक्षकों के पदों में परिवर्तन
विद्यालयों में 105 के नामांकन पर शारीरिक शिक्षक का पद आवंटित किया जाएगा। इससे पहले कई तृतीय श्रेणी अध्यापक पदों पर ही इन्हें लगाया जाता था। सेटअप परिवर्तन काउंसिंग में प्रारंभिक एवं माध्यमिक शिक्षा दोनों के रिक्त पदों पर शारीरिक शिक्षकों का पद स्थापन होना तय है। शारीरिक शिक्षक को शारीरिक शिक्षक के पद पर ही पदस्थापन दिया जाएगा।
सकारात्मक पहल
राजस्थान शिक्षक संघ शेखावत के प्रदेश महामंत्री उपेन्द्र शर्मा का कहना है कि स्टाफिंग पैटर्न का कलैण्डर निश्चित समय पर जारी करना विभाग की सकारात्मक पहल है। इससे शिक्षण कार्य प्रभावित नहीं होगा।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned