अजीबोगरीब स्थिति में यहां के शौचालय...शायद ही देखने को मिलेंगे ऐसे दृश्य

सुविधाघर बने दुविधाघर।

सीकर. मेडिकल कॉलेज से अटैच जिले के सबसे बड़े कल्याण अस्पताल में मरीजों को इलाज तो दूर मूलभूत सुविधाएं भी नहीं मिल पा रही हैं। ओपीडी से लेकर वार्ड तक मरीजों व तीमारदारों के लिए टॉयलेट में साफ-सफाई तक नही है। कहीं नल नहीं है तो कहीं पानी की व्यवस्था तक नहीं है। आउटडोर के दोनों तरफ शौचालय तो बने हैं लेकिन एक में पानी के पाइप नहीं हैं तो दूसरे को स्टोर के रूम में काम में लिया जा रहा है। साफ सफाई की इस अनदेखी के कारण रोजाना डेढ़ हजार से ज्यादा मरीज व परिजन खासे परेशान होते हैं।
इमरजेंसी और ओपीडी में शौचालय खराब
ट्रोमा यूनिट में शौचालय तो है लेकिन उसे मरीजों के परिजनों की बजाए स्टाफ व चिकित्सक ही काम में लेते हैं। फीमेल आर्थोपेडिक के बाहर बने शौचालय पर प्रबंधन ने ताले लगा रखे हैं। पास ही बने दूसरे शौचालय पर पानी का कोई इंतजाम नहीं है। आइसीयू के बाहर शौचालय तो बना हुआ है। लेकिन पानी की निकासी नहीं होने के कारण आए दिन शौचालय में चॉक रहते हैं। मरीज व तीमारदारों को अस्पताल के बाहर स्थित सुलभ शौचालय का सहारा लेना पड़ता है। इसके लिए सुलभ शौचालय संचालक मरीजों से भी मनमर्जी की रकम वसूलते हैं।

Gaurav Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned