नौकरी पर लगते ही अब दूसरी बड़ी नौकरी के लिए करेंगे पढ़ाई तो मिलेगा अवकाश भी

you will study for another big job, and you will get a holiday

बड़ी राहत: प्रोबेशनकाल में पाठ्यक्रमों व प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए मिल सकेगा असाधारण अवकाश

By: Gaurav

Published: 26 Feb 2021, 06:09 PM IST

you will study for another big job, and you will get a holiday

प्रदेश के दो लाख से अधिक कर्मचारियों को मिलेगा फायदा

सीकर. सरकारी नौकरी के साथ अब पढ़ाई बीच में छोडऩे की नौबत नहीं आएगी। वित्त विभाग ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिए हैं। ऐसे में कर्मचारियों का प्रोबेशनकाल स्वत: ही आगे बढ़ जाएगा। वित्त विभाग की इस छूट का प्रदेश के दो लाख से अधिक कर्मचारियों को हर साल फायदा मिलेगा। अर्से से इस संबंध में कर्मचारी संगठनों की ओर से मांग उठाई जा रही थी। अब सरकार ने कर्मचारियों को यह राहत दी है। इसका सबसे ’यादा फायदा शिक्षा विभाग के कर्मचारियों को मिलने की संभावना है। खास बात यह है कि प्रथम नियुक्ति के दौरान कर्मचारी जिस भी अन्य प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहा था उसके लिए भी प्रोबेशनकाल में अवकाश मिल सकेगा। वित्त विभाग ने आदेश में स्पष्ट किया कि संबंधित विभाग ऐसे कर्मचारियों के लिए असाधारण अवकाश स्वीकृत कर सकेंगे।


हर साल 85 हजार से अधिक आवेदन
शिक्षा, पंचायतीराज, महिला एवं बाल विकास, राजस्व विभाग व विद्युत कंपनियों में हर साल उ"ा अध्ययन व प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए अवकाश को हर साल 85 हजार से अधिक आवेदन आ रहे हैं। लेकिन नियमों में छूट का प्रावधान नहीं होने की वजह से कर्मचारियों का उ‘च शिक्षा का सपना टूट रहा था।


महकमों को भी फायदा
कर्मचारियों के उ"ातर अध्ययन से होने वाली स्किल में बढ़ोतरी का फायदा सरकारी महकमों को भी मिलेगा। कर्मचारी नेता भंवर सिंह का कहना है कि कई साल पहले कर्मचारियों को कम्प्यूटर कोर्स कराया गया था। इसका फायदा अब सरकारी महकमों को ही मिल रहा है।


केस 01: बीच में छोडऩी पड़ी एमएससी की पढ़ाई
सीकर निवासी मनस्वी शर्मा का पिछले साल द्वितीय श्रेणी शिक्षक भर्ती में चयन हो गया था। इस दौरान वह सीकर के एक निजी कॉलेज से नियमित विद्यार्थी के तौर पर एमएससी की पढ़ाई कर रही थी। लेकिन नियुक्ति के लिए जिला पाली मिला। पढ़ाई छोडऩी पड़ी। ओपन विवि से दुबारा पढ़ाई शुरू की है।


केस 02: शिक्षक बना लेकिन स्नातक अधूरी
करौली निवासी जितेन्द्र सिंह का पिछली भर्र्ती में बीएसटीसी के आधार पर शिक्षक भर्ती में चयन हो गया। इस दौरान वह स्नातक की पढ़ाई कर रहे थे। उन्होंने तृतीय श्रेणी अध्यापक के पद पर कार्यग्रहण तो कर लिया, लेकिन उनका सपना प्रशासनिक सेवा में जाने का है। पुराने नियमों की वजह से वह स्नातक भी पूरी नहीं कर पा रहे थे।


नहीं टूटेगा उ"ा अध्ययन का सपना
उ‘च शिक्षा हासिल करना कर्मचारियों का अधिकार है। प्रोबेशनकाल पूरा नहीं होने की वजह से सैकड़ों कर्मचारी हर साल पढ़ाई छोडऩे पर मजबूर थे। वित्त विभाग के छूट देने से कर्मचारियों को काफी फायदा मिलेगा। -महेन्द्र पाण्डे, महामंत्री, राजस्थान प्राथमिक एवं माध्यमिक शिक्षक संघ

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned