MP में BIRD FLU को लेकर अलर्ट जारी

-पशुपालन मंत्री दिया निर्देश

By: Ajay Chaturvedi

Updated: 05 Jan 2021, 06:56 PM IST

सिंगरौली. कोरोना का दंश अभी गया भी न था कि BIRD FLU के अंदेशे ने लोगों को परेशान कर दिया है। हर कोई सशंकित है। इस बीच पशुपान मंत्री प्रेम सिंह पटेल ने पूरे प्रदेश में BIRD FLU को लेकर अलर्ट जारी कर दिया है। पोल्ट्री और प्रवासी पक्षियों की विशेष निगरानी की हिदायत दी गई है। पक्षियों की मृत्यु की सूचना पर तत्काल रोग नियंत्रण के लिए भारत सरकार के स्तर से जारी दिशा निर्देशों के तहत कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए हैं।

बर्ड फ्लू को लेकर अलर्ट जारी (प्रतीकात्मक फोटो)

पशुपालन मंत्री पटेल ने कहा है कि प्रदेश के सभी जिलों में बर्ड फ्लू सर्विलांस का काम जारी है। प्रदेश के कुक्कुट फार्म, कुक्कुट बाजार, जलाशयों आदि की सतत निगरानी की जा रही है। कौओं और अन्य पक्षियों के नमूने एकत्र कर स्टेट डीआई लैब, भोपाल के माध्यम से भारतीय उच्च सुरक्षा, पशु रोग अनुसंधान प्रयोगशाला भोपाल को नियमित भेजे जा रहे हैं। जिलों में जिला प्रशासन, पशुपालन, वन, स्वास्थ्य विभाग आदि के समन्वय से रोग नियंत्रण कार्रवाई शुरू करा दी दई है।

पटेल ने प्रदेश में हो रही कौओं की मृत्यु पर प्रभावी नियंत्रण लगाने के निर्देश दिए हैं। प्रदेश के सभी जिलों को सतर्क रहने तथा किसी भी प्रकार की परिस्थिति में कौओं तथा अन्य पक्षियों की मृत्यु की सूचना पर तत्काल रोग नियंत्रण की कार्रवाई प्रारंभ करने की हिदायत दी गई है। बता दें कि प्रदेश में 23 दिसंबर 2020 से 3 जनवरी, 2021 तक इंदौर में 142, मंदसौर में 100, आगर-मालवा में 112, खरगोन जिले में 13, सीहोर में 9 कौओं की मृत्यु हुई है। मृत कौओं के सैंपल भोपाल स्थित स्टेट डीआई लैब भेजे जा रहे हैं। इंदौर में कंट्रोल-रूम की स्थापना कर रेपिड रिस्पांस टीम कार्रवाई कर रही है।

जिलों के पशुपालन विभाग के अधिकारियों से कहा गया है कि कौओं की मृत्यु की सूचना मिलते ही जिला कलेक्टर के मार्गदर्शन में स्थानीय प्रशासन और अन्य विभागों के समन्वय से तत्काल नियंत्रण एवं शमन की कार्रवाई कर शासन को रिपोर्ट भेजने को कहा गया है। पोल्ट्री एवं पोल्ट्री उत्पाद बाजार, फार्म, जलाशयों एवं प्रवासी पक्षियों पर विशेष निगरानी रखते हुए प्रवासी पक्षियों के नमूने एकत्र कर भोपाल लैब को भेजने को कहा गया है।

रोग नियंत्रण में लगे अमले को स्वास्थ्य विभाग द्वारा पीपीई किट, एंटी वायरल ड्रग आदि मुहैया कराया गया है। कहा गया है कि तत्काल मृत पक्षियों, संक्रमित सामग्री व आहार का डिस्पोजल और डिसइंफेक्शन सुनिश्चित किया जाए।

पक्षियों पर नजर रखने की हिदायत दी गई है। कहा गया है कि यदि पक्षियों की आंख, गर्दन और सिर के आसपास सूजन है, आंखों से रिसाव हो रहा है, कलगी और टांगों में नीलापन आ रहा है, अचानक कमजोरी, पंख गिरना, पक्षियों की फुर्ती, आहार और अंडे देने में कमी के साथ असामान्य तौर पर मृत्यु दर बढ़े, तो सतर्क हो जाएं। इसे कदापि छुपाएं नहीं, वरना यह परिवार के स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक हो सकता है। पक्षियों की मृत्यु की सूचना तत्काल स्थानीय पशु चिकित्सा संस्था या पशु चिकित्सा अधिकारी को दें।

Corona virus
Show More
Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned