मुख्यमंत्री दे गए टॉप फाइव में शामिल होने का लक्ष्य, मुख्यालय में ही स्वच्छता की स्थिति बदतर

ऐसा ही रहा तो रैंक होगी प्रभावित ....

By: Ajeet shukla

Updated: 20 Jan 2021, 11:21 PM IST

सिंगरौली. जिले के दौरे पर आए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने नगर निगम के अफसरों से उम्मीद की है कि वह स्वच्छता सर्वेक्षण की तैयारी इस तरह करेंगे कि सिंगरौली का नाम देश के टॉप मोस्ट स्वच्छ शहरों में शामिल होगा। यह बात और है कि यहां की स्थिति इस बार विपरीत है। आलम यह है कि इस बार की रैंक पिछली बार से कम न हो जाए।

वैसे तो स्वच्छता सर्वेक्षण की तैयारी को लेकर वृहद स्तर पर कार्य किए जाने का दावा किया जा रहा है, लेकिन नालियों की क्षत-विक्षत स्थिति और साफ-सफाई पर अफसर ध्यान नहीं दे रहे हैं। जिला मुख्यालय में ही नालियां गंदगी से पटी हैं। कहने को तो शहर के 45 वार्डों की सफाई कार्य में 200 से अधिक सफाई कर्मी लगे हैं, लेकिन नतीजा केवल बैठकों में रिपोर्ट देने तक सीमित है।

कलेक्टर ने भी नहीं किया गौर
स्वच्छता सर्वेक्षण की तैयारी को लेकर नगर निगम के अफसरों के साथ कलेक्टर राजीव रंजन मीना की ओर से भी कई दिन शहर का भ्रमण किया गया, लेकिन गंदगी से पटी और क्षत-विक्षत नालियों पर उनका ध्यान नहीं गया। नगर निगम के अफसरों ने भी कलेक्टर तक इस स्थिति को पहुंचने नहीं दिया गया।

ठेका हुआ, दुरुस्त नहीं की गई नाली
पिछले वर्ष स्वच्छता सर्वेक्षण की तैयारी के मद्देनजर नालियों को दुरुस्त करने के लिए एक साथ कई ठेकेदारों को जिम्मा दिया गया, लेकिन नालियों की स्थिति में सुधार नहीं किया जा सका। आधा-अधूरा निर्माण करते हुए ठेकेदारों ने सांठ-गांठ कर भुगतान करा लिया। नतीजा स्थिति पहले की तरह बदतर बनी रही।

तैयारी के लिए बचा केवल दो महीना
स्वच्छता सर्वेक्षण के लिए टीम आने में अभी दो महीने का वक्त बाकी है। वैसे तो सर्वेक्षण कार्य जनवरी में ही होना था, लेकिन कोरोना संक्रमण के मद्देनजर लॉकडाउन लागू के चलते प्रक्रिया को तीन महीने के लिए टाल दिया गया। अब सर्वेक्षण के लिए टीम के मार्च में आने की उम्मीद है।

Ajeet shukla Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned