scriptCoal production in NCL Singrauli affected due opposition to commercial | कामर्शियल माइनिंग का जबरदस्त विरोध, सड़क पर उतरे मजदूर | Patrika News

कामर्शियल माइनिंग का जबरदस्त विरोध, सड़क पर उतरे मजदूर

जानिए, देश की बड़ी कंपनी एनसीएल का काम किस तरह हुआ प्रभावित ....

सिंगरौली

Published: July 02, 2020 11:53:05 pm

सिंगरौली. कमर्शियल माइनिंग के खिलाफ एनसीएल के कोयला क्षेत्र में कार्य करने वाले कर्मचारी गुरुवार को तीन दिनों की हड़ताल पर चले गए। जिससे एनसीएल की सभी परियोजनाओं सहित कोल खदानों में लगभग पूरी तरह से काम बंद हो गया। पूर्व निर्धारित रणनीति के तहत विभिन्न कर्मचारी व श्रमिक संगठनों के नेतृत्व में सुबह से ही कर्मचारियों व श्रमिकों ने काम बंद कर हड़ताल शुरू कर दी।
Coal production in NCL Singrauli affected due opposition to commercial mining
Coal production in NCL Singrauli affected due opposition to commercial mining
केंद्रीय श्रमिक संगठन एटक, सीटू, इंटक व एचएमएस के साथ ही बीएमएस ने भी कमर्शियल माइनिंग के खिलाफ में आवाज बुलंद की है। इन पांचों केंद्रीय यूनियनों ने मिलकर कोल इंडिया प्रबंधन को चेताया था कि यदि कमर्शियल माइनिंग पर पुनर्विचार नहीं होता है तो 2 जुलाई से तीन दिवसीय हड़ताल पर जाएंगे। केंद्रीय श्रम आयुक्त और कोयला मंत्री से वार्ता विफल होने के बाद 2 जुलाई गुरुवार को सभी श्रमिक संगठनों ने एक साथ मिलकर आंदोलन की शुरुआत कर दी है।
इंटक यूनियन नेता आदित्य नारायण मिश्रा एवं बीएन सिंह ने कहा कि कांग्रेस ने कोयला उद्योग का राष्ट्रीयकरण देशहित और श्रमिक हित के लिए किया था। भाजपा सरकार इस पब्लिक सेक्टर को योजनाबद्ध तरीके से बेच रही है। बीएमएस नेता अरुण दुबे ने कहा कि कोयला खनन का अधिकार कोल इंडिया के पास ही रहना चाहिए। निजी कंपनी तो अपने फायदे के लिए काम करेगी। मजदूरों का जमकर शोषण करेगी। एटक नेता अशोक दुबे ने कहा कि सरकार का निर्णय गलत है।
इससे कोयला उद्योग पर बुरा प्रभाव पड़ेगा। वहीं सीटू नेता पीएस पांडे व अशोक धारी ने कहा कि सरकार भटक गई है। कोयला उद्योग में निजी कंपनियों के आने का पुरजोर विरोध होगा और आज की हड़ताल से सरकार व प्रबंधन की चुले हिल जाएंगी। एचएमएस नेता केसी शर्मा व अशोक पांडे ने कहा कि निर्णय कोयला उद्योग के लिए घातक है। सड़क से लेकर संसद तक लड़ेंगे। यह सरकार मजदूर विरोधी काम कर रही है। आने वाले समय में सरकार को इसका जबाव मिल जाएगा।
गुरुवार सुबह से ही यूनियन नेता और कोल कर्मचारी खदान बैरियर व परियोजना प्रवेश द्वार पर डटे दिखे। यूनियन नेता आरएम त्रिपाठी, मुन्नीलाल, जितेंद्र सिंह, शैलेंद्र चौबे, संत कुमार, अटल राम एवं एसएन सिंह ने बताया कि सभी श्रमिकों का सहयोग कमर्शियल माइनिंग के खिलाफ लड़ाई में मिल रहा है और आउटसोर्सिंग कंपनियों के कर्मचारियों ने भी हड़ताल में शरीक होकर हड़ताल को मजबूत किया है। सरकार को कमर्शियल माइनिंग के फैसले पर पुनर्विचार करना होगा और कोल श्रमिको के भविष्य के साथ किसी को भी खिलावाड़ नहीं करने दिया जाएगा।
स्थिति को नियंत्रित करने सक्रिय रही पुलिस
हड़ताल में मोरवा पुलिस व उत्तर प्रदेश की शक्तिनगर पुलिस सक्रिय रही। मोरवा थाना प्रभारी मनीष त्रिपाठी ने कमान संभाल रखा था। वहीं शक्तिनगर क्षेत्र में पिपरी क्षेत्राधिकारी विजय शंकर मिश्रा के नेतृत्व में शक्तिनगर थाना प्रभारी मिथिलेश मिश्रा दल-बल के साथ मोर्चेे पर डटे रहे। ताकि स्थिति शांतपूर्ण बनी रही।
काम पर जाने वालों को महिलाओं ने भेंट की चूडिय़ां
हड़ताल के दौरान एनसीएल की खडिय़ा परियोजना में महिला कर्मियों ने भी मोर्चा संभाला। उनकी ओर से उन कर्मचारियों को चूड़ी भेंट की गई, जो हड़ताल के दौरान काम पर गए। करीब 20 फीसदी कर्मचारी आकस्मिक सेवाओं का हवाला देते हुए काम पर रहे। यही वजह है कि कार्यालय से लेकर खदान में काम चलता रहा।
एनसीएल का दावा, 18500 टन कोल उत्पादन हुआ
एनसीएल के जनसंपर्क अधिकारी राम विजय सिंह के मुताबिक हड़ताल के चलते 80 फीसदी कर्मचारी अनुपस्थित रहे। 20 फीसदी कर्मचारियों से कोयला उत्पादन व प्रेषण का कार्य किया गया। पीआरओ ने बताया कि गुरुवार की प्रथम पाली में एनसीएल ने लगभग 18500 टन कोयला उत्पादन किया। इस दौरान कंपनी द्वारा किए जाने वाले कोयला प्रेषण भी आंशिक रूप से प्रभावित रहा। गुरुवार को प्रथम पाली में एनसीएल ने लगभग 60600 टन कोयला डिस्पैच किया। कहा कि हड़ताल के दौरान कोई भी अप्रिय घटना की सूचना नहीं है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Cash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कतहो जाइये तैयार! आ रही हैं Tata की ये 3 सस्ती इलेक्ट्रिक कारें, शानदार रेंज के साथ कीमत होगी 10 लाख से कमइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजमां लक्ष्मी का रूप मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां, चमका देती हैं ससुराल वालों की किस्मतShani: मिथुन, तुला और धनु वालों को कब मिलेगी शनि के दशा से मुक्ति, जानिए डेटइन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीराजस्थान में आज भी बरसात के आसार, शीतलहर के साथ फिर लौटेगी कड़ाके की ठंडPost Office FD Scheme: डाकघर की इस स्कीम में केवल एक साल के लिए करें निवेश, मिलेगा अच्छा रिटर्न

बड़ी खबरें

Subhash Chandra Bose Jayanti 2022: पीएम मोदी ने किया नेताजी की भव्य होलोग्राम प्रतिमा का अनावरणभारत में कम्युनिटी ट्रांसमिशन स्टेज पर पहुंचा ओमिक्रॉन वेरिएंट - केंद्र सरकारUP Assembly Elections 2022 : पलायन और अपराध खत्म अब कानून का राज,चुनाव बदलेगा देश का भाग्य - गृहमंत्री शाहराजपथ पर पहली बार 75 एयरक्राफ्ट और 17 जगुआर का शौर्य प्रदर्शन, देखें फुल ड्रेस रिहर्सल का वीडियोहेट स्पीच को लेकर हिन्दू संगठन पहुंचा सुप्रीम कोर्ट, कहा-मुस्लिम नेताओं की भी हो गिरफ्तारीUP Election 2022: बुन्देलखण्ड का सियासी समीकरण, क्या बीजेपी की जड़ों को हिला सकेंगे सपा-बसपा और कांग्रेसकोविड टीकाकरण की पहचान आपके साथ में, अब पहनों ईमूनोबैंड अपने हाथ मेंRespiratory System: श्वसन तंत्र का मुख्य कार्य और स्वस्थ फेफड़ों के लिए खाएं ये खाद्य पदार्थ
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.