चुनाव बाद फिर बुलंद है अपराधियों का हौसला, जानिए किस तरह घटनाओं को दे रहे अंजाम

डायल 100 पर बढ़ी शिकायतें....

By: Ajeet shukla

Published: 19 Jan 2019, 11:05 PM IST

सिंगरौली. सौ लगाओ, पुलिस बुलाओ। यह सिलसिला जारी है, लेकिन शिकायतों की संख्या पर गौर करें तो जनवरी में अब तक 1835 शिकायतें डायल 100 को मिली हैं। विधानसभा चुनाव के दौरान लगातार की गई कार्रवाई के चलते डायल १०० पर शिकायतों की संख्या में कमी आई थी। जिसमें अब चुनाव बीत जाने के बाद धीरे-धीरे बढ़ोत्तरी हो रही है। इससे यह जान पड़ रहा है कि अपराधियों के हौसले फिर बुलंद हो रहे हैं। जनवरी के दो सप्ताह में ही शिकायतों की संख्या चांैकाने वाली है। स्थिति यह है कि महीनेभर में तीन हजार के करीब शिकायतें मिलने की संभावना व्यक्त की गई है।

पिछला आंकड़ा देखें तो चुनाव से पहले डायल 100 को मिलने वाली शिकायतों की संख्या 3500 से अधिक रही है। अक्टूबर तक 3556 शिकायतें मिली थी।जबकि चुनाव के दरम्यान शिकायतों की संख्या में कमी आ गईथी। नवंबर में 2970 व दिसंबर में 2749 शिकायतें डायल 100 को मिली थी। इन दो महीनों में शिकायतों की संख्या में आई कमी चुनाव के मद्देनजर पुलिस की सक्रियता का नतीजा माना जा रहा है।

सबसे ज्यादा यहां मिली मदद
पिछले तीन महीनों के आंकड़ों पर गौर फरमाए तो फरियादियों की सूचना पर सबसे ज्यादा कोतवाली, विंध्यनगर और बरगवां में डायल 100 से मदद की गई है। सूचना के तत्काल बाद सूचनकर्ता के स्थान पर पहुंचकर मामले को शांत कराया है। बैढऩ की एफआरवी (फास्ट रिलीव व्हीकल) ने तीन महीनों में करीब 2000, विंध्यनगर की एफआरवी ने 1800 व बरगवां की एफआरवी ने 1500 की मदद की है।

यह है योजना:
डायल 100 मध्यप्रदेश शासन की एक अत्यंत महत्वपूर्ण अभिनव पुलिस आपातकालीन रेस्पांस सेवा योजना है। इससे न सिर्फ पुलिस की दक्षता में वृद्धि हुई है बल्कि जनता को बेहतर पुलिस सेवा मिल रही है। इससे लोकतंत्र मजबूत हुआ है। एक नवम्बर 2015 से पीएचक्यू के इस महत्वाकांक्षी डायल १०० सेवा योजना का शुभारंभ किया गया। तब से लेकर अभी तक विभिन्न प्रकार की सूचनाओं पर डायल १०० वाहन मौके पर पहुंचकर पीडि़तों को मदद पहुंचाई है।

अपराधों में आई कमी
डायल 100 सेवा से जिले में मारपीट, छेड़़छाड़, चोरी, लूट इत्यादि अपराधों में कमी आई है। डायल 100 वाहन प्रतिमाह लगभग कई किमी गश्त भी दिन एवं रात्रि में करती है। दिन की गश्त में विद्यालयों, सुनसान गलियों, भीड़ भरे बाजारों, बैंकों आदि के आसपास की जाती है एवं रात्रिगश्त के दौरान राजमार्गों पर भी गश्त की जाती है। जिससे लूट की घटनाओं में भी कमी आई है। डायल 100 योजना लागू होने के बाद अपराधों में कमी आई है।

तीन माह के शिकायतों की स्थिति:
अक्टूबर - 3556
नवम्बर - 2970
दिसंबर - 2749
जनवरी(अब तक) - 1835

Ajeet shukla Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned