खौफनाक अपराधों में डरा रही बच्चों की संलिप्तता, गिरोह देखकर आप भी रह जाएंगे दंग, मंहगे शौक में उठा रहे कदम

खौफनाक अपराधों में डरा रही बच्चों की संलिप्तता, गिरोह देखकर आप भी रह जाएंगे दंग, मंहगे शौक में उठा रहे कदम
Dangerous criminal of raw age in Singrauli

Amit Pandey | Updated: 02 Aug 2019, 02:53:22 PM (IST) Singrauli, Singrauli, Madhya Pradesh, India

गंभीर अपराध को दे रहे अंजाम......

सिंगरौली. बुरी संगत, परिजनों की अनदेखी, महंगे शौक व हाइप्रोफाइल लाइफ जीने का जुनून नाबालिगों को अपराधी बना रहा है लेकिन इससे भी बुरी खबर यह है कि अब कच्ची उम्र में ही खिलौनों के बजाए कानून से खेलने लगे हंै। उम्र में ये नाबालिग हैं पर इनके कारनामें और अपराध देखकर आपके रोंगटे खड़े हो जाएंगे।

जिन किशोर के हाथों में कलम-किताब और जहन में उज्ज्वल भविष्य का ताना बुना होना चाहिए। उसके हाथ खून से रंगे हैं और खोपड़ी में खौफनाक मंसूबे पल रहे हैं। कत्ल और बलात्कार जैसी वारदात इनकी चुटकियों का काम है। बीते एक साल में सींखचों के पीछे धकेले गए 32 कुख्यात किशोर इस सनसनीखेज खबर की तस्दीक के लिए काफी हैं।

हैरत की बात यह है कि 13 साल का एक किशोर ने भी अपराध का ककहरा पढ़ लिया और चोरी की वारदात को अंजाम दे दिया। फिलहाल वह पुलिस की गिरफ्त में है। कानून की बेडिय़ां भी इन किशोरों के खौफनाक इरादों को नहीं बांध पा रही हैं। यही वजह है कि किशोर गृह से छूटने के बाद फिर से वारदातों के सफर पर निकल पड़ते हैं।

रिकार्ड नहीं होने का उठाते हंै फायदा
पुलिस सूत्रों की मानें तो वारदात को अंजाम देने शातिरों का वर्तमान में कोई रिकार्ड नहीं है। वारदातों में शामिल होने वाले किशोरों को खुद नहीं पता होता कि वो कितना बड़ा अपराध कर रहे हंै। इन्हें सिर्फ पैसों से मतलब होता है। वारदात को अंजाम देने के बाद जब ये हद से ज्यादा पैसे खर्च करते हैं। तो मुखबिरों की सूचना पर पुलिस इनसे पूछताछ करती है और उसके बाद कई बड़े खुलासे होते है। सिंगरौली पुलिस ने हाल ही में लूट, चोरी, बलात्कार के बड़ी वारदातों में नाबालिगों को भी पकड़ा है।

मंहगे शौक में उठा रहे कदम
पुलिस जब नाबालिग को गिरफ्तार कर किसी घटना का खुलासा करती है तो उसमें यह दर्शाया जाता है कि मंहगे शौक को पूरा करने के लिए चोरी की वारदात को अंजाम दे रहा था। वहीं ज्यादातर बुरी संगत के चलते ऐसा कदत उठाते हैं।

केस- एक
सासन चौकी क्षेत्र के शिवपहरी में गत महीने एक महिला के साथ दुष्कर्म के बाद हत्या के मामले में एक नाबालिग आरोपी को पुलिस ने पकड़ा था। पुलिस की पूछताछ में नाबालिग ने जुर्म करना कबूल किया। पुलिस ने नाबालिग अपचारी को सुधार गृह भेज दिया था।

केस-दो
कोतवाली पुलिस ने 25 जुलाई को एक नाबालिग को गिरफ्तार कर चोरी की बाइक बरामद कर लिया है। बाल अपचारी को पुलिस ने सुधार गृह भेजा है। पुलिस ने बताया कि बाल अपचारी चोरी के कई वारदात को अंजाम दे चुका है।

फैक्ट फाइल:-
वर्ष नाबालिग आरोपी
2016 23
2017 28
2018 32
2019(जून) 21

समाज व परिवार लगाए रोक
चार परिस्थितियों में बच्चे अपराध करते हैं। पहले जो स्कूल नहीं गए या जिन पर परिजनों का कंट्रोल नहीं है। दूसरे जो कम उम्र में बुरी लत के शिकार हो गए। तीसरा एंटी सोशल पर्सनालिटी यानी उनमें ऐसा करने के लक्षण पहले से मौजूद है। चौथा वे जो आधुनिकता की दौड़ में खुद को कमजोर समझते हैं। इन्हें समाज और परिवार ही रोक सकता है।
डॉ. आशीष पाण्डेय, मनोचिकित्सक जिला अस्पताल सिंगरौली।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned