बरसात के मौसम में कंपनी कर रही बेघर, परिवार सहित गुहार लगाने कलेक्ट्रेट पहुंचे पीडि़त, जानिए क्या है पूरा मामला

बरसात के मौसम में कंपनी कर रही बेघर, परिवार सहित गुहार लगाने कलेक्ट्रेट पहुंचे पीडि़त, जानिए क्या है पूरा मामला
Hundreds of victims tried to get justice from Singrauli collector

Amit Pandey | Publish: Jun, 25 2019 12:36:18 PM (IST) Singrauli, Singrauli, Madhya Pradesh, India

जिला प्रशासन को सौंपा ज्ञापन......

सिंगरौली. बरसात के मौसम में रहवासियों को एनसीएल अमलोरी परियोजना की ओर से बेघर किया जा रहा है। ऐसी परिस्थितियों में सैकड़ों की संख्या में स्थानीय लोग एनसीएल के विरोध में कलेक्ट्रेट पहुंचे। जहां ज्ञापन सौंपते हुए आवास दिलाने की मांग किया है। ग्रामीणों ने बताया है कि अमलोरी परियोजना में वार्ड २५ स्थित एलसीएच में तत्कालीन प्रबंधन की स्वीकृत मौखिक आदेश पर निवासरत है। राजनीतिक दबाव में आकर एनसीएल ने बेदखल करने का फैसला लिया है। निगम चुनाव के मद्देनजर राजनीतिक पार्टियों की ओर से एलसीएच के रहवासियों को बेघर करने का दबाव बनाया जा रहा है।

एनसीएल प्रबंधन की ओर से ऐसा कदम तब उठाया जाता है, जब निगम चुनाव की तिथि नजदीक आती है। इस मसले को लेकर कुछ राजनीतिक पार्टियों के नेता अपनी वाहवाही लेने के लिए प्रबंधन को ऐसा करने का दबाव बनाते हैं। ज्ञापन के दौरान बताया है कि बरसात के सीजन में बेघर कर देने पर हम लोग कहां जाएंगे। रहवासियों के पास तत्कालिक आवासीय व्यवस्था नहीं होने के कारण परेशानियों के दौर से गुजरना पड़ेगा। ग्रामीणों ने जिला प्रशासन को कई तरह की परेशानियों को अवगत कराते हुए आवास दिलाने की मांग किया है।

सैकड़ों परिवार कर रहा निवास
बताया गया है कि एलसीएच के आवास में वर्तमान में सैकड़ों परिवार निवास कर रहा है। बारिश से पहले एनसीएल की अमलोरी परियोजना प्रबंधन की ओर से बेदखली की कोई कार्रवाई नहीं की गई। जैसे ही बरसात का मौसम शुरू हुआ कि रहवासियों को बेघर करने की कार्रवाई शुरू कर दी गई। जिससे परेशान होकर ग्रामीणों ने जिला प्रशासन से न्याय की गुहार लगाई है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned