रेत कारोबारी ने गुर्गों संग मिलकर खनिज अमले पर किया हमला, खनिज निरीक्षक सहित चार घायल

लोहे की राड व लाठी से किया गया हमला, मामला दर्ज, तलाश में जुटी पुलिस .....

By: Ajeet shukla

Published: 06 Jul 2020, 02:00 PM IST

सिंगरौली. जिले में अवैध रेत खनन व परिवहन में लगे कारोबारियों ने दु:स्साहसपूर्ण तरीके से खनिज अमले पर हमले की घटना को अंजाम दिया है। रेत कारोबारी द्वारा गुर्गों के साथ मिलकर किए गए हमले में खनिज निरीक्षक सहित चार लोग गंभीर रूप से घायल हो गए हैं। घायलों का जिला अस्पताल में इलाज चल रहा है। खनिज अमला रेत के अवैध खनन व परिवहन की सूचना पर रविवार की देर रात पड़ताल में बरगवां क्षेत्र के राजासरई इलाके में पहुंचा था।

राजासरई गांव में पहुंचे खनिज अमले पर हुए हमले में खनिज विभाग के इंस्पेक्टर कपिल मुनि शुक्ला को गंभीर चोटें आई हैं। इसके अलावा सर्वेयर मुनींद्र सिंह, आरक्षक दीनबंधु बैगा व वाहन चालक राजकुमार जायसवाल भी हमले में घायल हुए हैं। हमला लोहे की राड व लाठी से किया गया बताया जा रहा है। देर रात हुई इस वारदात में खनिज अमले के वाहनों में भी तोडफ़ोड़ की गई है। घटना में आधा दर्जन हमलावरों के शामिल होने की बात की जा रही है।

खनिज अधिकारी एके राय के मुताबिक रविवार को देर रात सूचना मिली थी कि राजासरई इलाके की नदी में रेत का अवैध तरीके से खनन कर ट्रैक्टर के जरिए परिवहन किया जा रहा है। सूचना के आधार पर खनिज निरीक्षक कपिल मुनि शुक्ला सर्वेयर व आरक्षक के साथ वाहन से मौके पर पहुंचे। अमले को वहां रेत से लदे दो ट्रैक्टर मिले। अमले ने वाहनों को कब्जे में लेकर कार्रवाई शुरू ही की थी कि वहां मौजूद लोगों ने विरोध शुरू कर दिया।

खनिज निरीक्षक रेत लदे वाहनों को थाने ले जाने की कार्रवाई कर रहे थे। उन्होंने कार्रवाई बंद नहीं की तो लोहे की राड और लाठी से लैस लोगों ने हमला कर दिया और घायल कर फरार हो गए। हमले में खनिज निरीक्षक कपिल मुनि शुक्ला को गंभीर चोट आई है। उन्हें जिला अस्पताल ट्रामा सेंटर में भर्ती किया गया है।

खनिज निरीक्षक के साथ मौजूद सर्वेयर मुनींद्र सिंह, आरक्षक दीनबंधु बैगा व वाहन चालक राजकुमार जायसवाल की भी बीच-बचाव के दौरान हमलावरों ने राड व लाठी-डंडे से पिटाइ की, जिससे वह सभी भी घायल हो गए। इन सभी का इलाज भी जिला अस्पताल में किया गया है। फिलहाल खनिज अधिकारी ने घटना की शिकायत बरगवां थाने में की है। पुलिस हमलावरों की तलाश में है।

रेत खनन पर लगी है रोक
वर्तमान में रेत के खनन पर शासन स्तर से रोक लगी है। बरसात के मद्देनजर यह रोक लगाई गई है और पोर्टल बंद है। अधिकारियों के मुताबिक अब दो अक्टूबर के बाद फिर से खनन शुरू होगा। इधर, रोक के बावजूद रेत कारोबारी चोरी छिपे जिले के विभिन्न स्थानों व नदियों में खनन कर रहे हैं। खनन रात में किया जाता है। इसमें पुलिस की मिलीभगत की बात की जा रही है।

दो के खिलाफ की गई नामजद शिकायत
खनिज अधिकारी के मुताबिक विभाग के अमले पर हमला करने वालों में कुंदन सिंह व चंदन सिंह सहित आधा दर्जन लोग शामिल रहे। शिकायत के आधार पर पुलिस द्वारा आरोपियों के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर उनकी तलाश की जा रही है। घटना के बाद से वह सभी फरार हैं। बरगवां थाना प्रभारी नागेंद्र सिंह के मुताबिक खनिज अधिकारी की शिकायत पर मामला दर्ज किया गया है।

पुलिस पर उठ रही उंगली
रोक के बावजूद रेत का अवैध खनन जारी है। जिससे चलते पुलिस की कार्य प्रणाली पर भी उंगली उठ रही है। लगभग सभी खदानों में चोरी-छिपे खनन चल रहा है, लेकिन पुलिस इस पर रोक लगाने की जरूरत नहीं समझ रही है। जिससे उस पर मिलीभगत का आरोप लगा रहा है। खनिज अमला भी आंख मूंदे हुए हैं। लंबे समय के बाद कार्रवाई करने पहुंचा भी तो हमले का शिकार बन गया।

Ajeet shukla Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned