गवाही देने पर ग्राम प्रधान ने साथियों के साथ मिलकर गवाह को मारी गोली, दो गिरफ्तार

पुलिस ने मामले में ग्राम प्रधान सहित 4 लोगों पर केस दर्ज कर दो आरोपियों को गिरफ्तार भी कर लिया है।

सीतापुर. जनपद सीतापुर में एक गवाह को ग्राम प्रधान के खिलाफ गवाही देना उस वक़्त महंगा साबित जब ग्राम प्रधान ने गवाही देने के एवज में घर में घुसकर तांडव काटा। ग्राम प्रधान ने अपने तीन साथियों संग मिलकर गवाह की बीती और बच्चो को पीटा और इतना ही नही गवाह को जान से मारने की नीयत से उस पर फायर भी झोंक दिया। गोली लगने से गवाह युवक लहूलुहान होकर वही गिर गया और वारदात के बाद आरोपी फरार हो गए। परिजनों ने मामले की सूचना पुलिस को देकर घायल युवक को अस्पताल में भर्ती कराया जहां उसका उपचार चल रहा हैं। पुलिस ने मामले में ग्राम प्रधान सहित 4 लोगों पर केस दर्ज कर दो आरोपियों को गिरफ्तार भी कर लिया है।

घर में घुसकर मारी गोली

घटना हरगांव थाना क्षेत्र के सुल्तानपुर इलाके की है। यहां के निवासी अशफाक को ग्राम प्रधान ने घर में घुसकर गोली मार दी। मिली जानकारी के अनुसार,इसी गांव के ग्राम प्रधान कमलेश और दूसरा पक्ष पुष्पेन्द्र के बीच तकरीबन 5 माह पूर्व विवाद और फायरिंग हुयी थी। घायल अशफाक के मुताबिक इसी विवाद में वह गवाह था और उसने मामले में कुछ दिन पूर्व ग्राम प्रधान के खिलाफ गवाही दी थी और इसी रंजिश के चलते ग्राम प्रधान ने बीती देर रात अपने तीन साथियों संग मिलकर घर में धावा बोल दिया। दबंग प्रधान ने घर में धावा बोलकर घर में तोड़फोड़ की और महिलाओं और बच्चों को भी मारा पीटा। गवाही देने से नाराज दबंगों का कहर यही पर नही रुका उन्होंने गवाह अशफाक पर फायर झोंक दिया जिससे गोली उसके दाहिने हाथ में जा लगी।

जांच में जुटी पुलिस

वारदात के बाद आरोपी मौके से फरार हो गए और परिजनों ने घायल को सीएचसी में भर्ती कराया जहां डॉक्टरों ने उसे प्राथमिक उपचार के बाद जिला अस्पताल रेफर कर दिया। पुलिस का कहना है कि मामले में तहरीर के आधार पर ग्राम प्रधान सहित चार लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है और जांच पड़ताल की जा रही है। पुलिस का कहना है कि पीड़ित की हालत खतरे से बाहर है और उसका इलाज जिला अस्पताल में चल रहा है।

नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned