दो अवैध असलहा फैक्ट्रियों का पर्दाफाश, भारी मात्रा में हथियार और कारतूस बरामद

जनपद सीतापुर में पुलिस ने त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में माहौल बिगाड़ने और आस-पास के जनपदों में अवैध असलहे का निर्माण कर तस्करी करने वाले गिरोह के पर्दाफाश करने का दावा किया है।

सीतापुर. जनपद सीतापुर में पुलिस ने त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में माहौल बिगाड़ने और आस-पास के जनपदों में अवैध असलहे का निर्माण कर तस्करी करने वाले गिरोह के पर्दाफाश करने का दावा किया है। पुलिस ने गिरोह के दो सदस्यों को गिरफ्तार कर उनके कब्जे से 16 निर्मित अवैध असलहे और बंदूक और भारी मात्रा में अर्धनिर्मित शस्त्र बरामद करने में सफलता प्राप्त की हैं। पुलिस का दावा है कि यह गिरोह सीतापुर के पड़ोसी जनपद, लखीमपुर, लखनऊ, हरदोई, बाराबंकी सहित अन्य जनपदों में शस्त्रों की मांग होने पर पंचायत चुनाव में सप्लाई का काम करते हैं। पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर जेल भेजने की कार्रवाई शुरू की है और गिरोह के अन्य सदस्यों की तलाश के लिए भी टीमें लगायी है।

 

अवैश शस्त्र फैक्ट्री का भांडाफोड़

पंचायत चुनाव में अवैध शस्त्रों की डिमांड बढ़ते ही अवैध असलहों की मांग अधिक बढ़ जाती है और अवैध कारोबारी इसका व्यापार बढ़ा देते हैं। सीतापुर पुलिस ने अभियान चलाकर अवैध कारोबार पर लगाम लगाने के लिए सकरन और खैराबाद इलाके में चल रही अवैध असलहा फैक्ट्री को संचालित कर रहे दो अभियुक्तों राजकुमार निवासी सकरन और रामाश्रय निवासी रमुवापुर को गिरफ्तार कर इनके कब्जे से भारी मात्रा में अवैध असलहे बरामद किया। पुलिस का दावा हैं कि गिरफ्तार इन अभियुक्तों के पास से शस्त्र बनाकर आस-पास के जनपदों में सप्लाई करते हैं। पुलिस के इस छापेमारी के दौरान मौक़ाय वारदात से एक दर्जन से अधिक निर्मित असलहे और बंदूक एवं अर्धनिर्मित असलहे और शस्त्र बनाने के उपकरण बरामद करने में सफलता प्राप्त की हैं। पुलिस का कहना हैं कि सीतापुर में अवैध हथियारों के कारोबार के खिलाफ अभियान लगातार चल रहा है और लगातार अभियुक्तो को गिरफ्तार कर अवैध शस्त्र फैक्ट्री का भंडाफोड़ किया हैं।

नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned