30 लाख लोगों का पेट भर चुके हैं 82 वर्षीय खैरा बाबा

महाराष्ट्र के यवतमाल में राष्ट्रीय राजमार्ग 7 पर बसे करंजी गांव में 'गुरु का लंगर' कोरोनाकाल में अब तक 30 लाख से ज्यादा लोगों की भूख मिटा चुका है।

By: Mohmad Imran

Published: 14 Jun 2021, 06:25 PM IST

करोनकाल में हर किसी ने अपने हिसाब से लोगों की मदद की है। खासकर प्रवासी मजदूरों और राजमार्ग-सड़कों के रास्ते होकर पैदल ही अपने गाँव जा रहे मजबूर मजदूरों की। ऐसे ही एक शख्स हैं खैरा बाबा। महाराष्ट्र के यवतमाल में राष्ट्रीय राजमार्ग 7 पर बसे करंजी गांव में 'गुरु का लंगर' कोरोनाकाल में अब तक 30 लाख से ज्यादा लोगों की भूख मिटा चुका है। इसके संचालक 82 वर्षीय बाबा करनैल सिंह खैरा अकेले ही 24 मार्च, 2020 से ही थके हुए प्रवासियों और भूखे यात्रियों के लिए इस लंगर का संचालन कर रहे हैं।

इतना ही नहीं दूसरी लहर में ऑक्सीजन की कमी को देखते हुए खैरा बाबा ने एक 'ऑक्सीजन बैंक' भी शुरू किया है। वे अब तक आस-पास के गांव में जरुरतमंदों को अपने बैंक से 15 ऑक्सीजन सिलेंडर उपलब्ध करवा चुके हैं। उनके जज्बे को देखकर दुनियाभर के सेलिब्रिटीज और आम लोगों ने उनके लंगर को हमेशा चलाए रखने के के लिए दान भी दिया है। इस लंगर से अब 6 लाख से जयादा खाने के पैकेट भी राहगीरों को बांटे गए हैं।

Mohmad Imran
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned