यूरो कप फाइनल के बाद मचे हुडदंग में F1 ड्राइवर के साथ हुई लूटपाट, हाथ से निकाली 75 लाख रुपए की घड़ी

स्टेडियम में करीब 2500 लोग बिना टिकट के घुस आए थे। इन लोगों ने वहां सीटों पर कब्जा कर लिया। इससे टिकट लेकर मैच देखने आए लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा।

By: Mahendra Yadav

Updated: 14 Jul 2021, 03:07 PM IST

यूरो कप 2020 के फाइनल में हाल ही इटली ने पेनल्टी शूटआउट में इंग्लैंड को हराया। फाइनल मैच खत्म होने के बाद स्टेडियम में मौजूद दर्शकों ने काफी उत्पात भी मचाया। इस दौरान मैच देखने आए एफ 1 ड्राइवर लैंडो नॉरिस के साथ लूटपाट भी हुई। इसमें किसी ने उनकी लाखों रुपए की कीमत वाली घड़ी छीन ली। दरअसल, स्टेडियम में करीब 2500 लोग बिना टिकट के घुस आए थे। इन लोगों ने वहां सीटों पर कब्जा कर लिया। इससे टिकट लेकर मैच देखने आए लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा। कई वीआईपी फैंस भी इससे प्रभावित हुए।

75 लाख की घड़ी ले गए
द सन वेबसाइट की रिपोर्ट के अनुसार, 21 साल के एफ 1 ड्राइवर नॉरिस जब मैच के बाद अपनी कार की तरफ जा रहे थे तो उत्पातियों के एक ग्रुप ने उन्हें घेर लिया था। एक शख्स ने उनका कॉलर पकड़ लिया था और दूसरे शख्स ने उनकी रिचर्ड माइल घड़ी छीन ली। इस घड़ी की कीमत करीब 75 लाख रुपए बताई जा रही है। हालांकि नॉरिस को कोई शारीरिक नुकसान नहीं पहुंचा। नॉरिस की टीम मेक्लारेन ने भी इस घटना की पुष्टि की है। टीम की तरफ से जारी एक बयान में कहा गया है कि मैक्लारेन रेसिंग ये बात कंफर्म करती है कि नॉरिस यूरो 2020 फाइनल मैच में हुई एक घटना में शामिल थे और इस दौरान उनकी कीमती घड़ी को छीन लिया गया।

यह भी पढ़ें— यूरो कप फाइनल: पेनल्टी शूटआउट में इटली ने इंग्लैंड को हराकर जीता खिताब

lando_norris2.png

सीटों पर कर लिया था कब्जा
एक चश्मदीद ने द सन वेबसाइट के साथ बातचीत में बताया कि एक व्यक्ति ने नॉरिस को पकड़ लिया गया था और उनकी घड़ी खींच ली थी। उस दौरान नॉरिस काफी हैरान-परेशान दिख रहे थे। यह सब सिक्योरिटी की कमी की वजह से हुआ। इसी वजह से सैंकड़ों की संख्या में लोग बिना टिकट के भी स्टेडियम में घुस गए थे। हालात का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इटली के मैनेजर रॉबर्टो मैनचिनी के बेटे की सीट तक पर लोगों ने कब्जा कर लिया गया था।

यह भी पढ़ें— आर्चर, स्टोक्स ने प्रशंसकों से इंग्लैंड के खिलाड़ियों पर नस्लीय टिप्पणी नहीं करने की अपील की

सोशल मीडिया पर खिलाड़ियों को किया गया ट्रोल
इटली और इंग्लैंड के बीच हुए यूरो कप फाइनल का निर्णय एक्स्ट्रा टाइम तक भी नहीं निकल पाया था। ऐस में मैच का निर्णय पेनल्टी शूटआउट से हुआ। हालांकि पेनल्टी शूटआउट में इंग्लैंड की तरफ से हैरी केन, हैरी मैगुआर ने गोल किए लेकिन मार्कस रैशफॉर्ड, जेडन सांचो और बुकायो साका गोल नहीं कर पाए थे। इसके बाद लोगों ने सोशल मीडिया पर उन्हें बुरी तरह ट्रोल किया।

Mahendra Yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned