शुद्ध के लिए युद्ध अभियान में भ्रष्टाचार: सैंपल नहीं लेने की एवज में 20 हजार की रिश्वत लेते बाबू गिरफ्तार

भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की टीम ने बुधवार दोपहर सीएमएचओ कार्यालय के एक बाबू को 20 हजार रुपए की रिश्वत लेते गिरफ्तार किया।

By: kamlesh

Published: 25 Aug 2021, 08:02 PM IST

श्रीगंगानगर। भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की टीम ने बुधवार दोपहर सीएमएचओ कार्यालय के एक बाबू को 20 हजार रुपए की रिश्वत लेते गिरफ्तार किया। सीएमएचओ कार्यालय में तैनात इस बाबू ने शुद्ध के लिए युद्ध अभियान में केसरीसिंहपुर की एक मिठाई की दुकान से सैंपल नहीं लेने की एवज में रिश्वत मांगी थी। छापे की कार्रवाई के बाद सीएमएचओ कार्यालय में हड़कंप मच गया।

ब्यूरो के डीएसपी भूपेन्द्र कुमार सोनी ने बताया कि परिवादी केसरीसिंहपुर में सन्नी स्वीट्स के नाम से मिठाई की दुकान संचालित करता है। खाद्य संरक्षा अधिकारी लक्ष्मीकांत गुप्ता व बाबू प्रवीण खत्री ने 20 अगस्त को इस दुकान का निरीक्षण किया था। इसमें परिवादी की दुकान से सैंपल नहीं लिया गया। जिसकी एवज में आरोपी बाबू प्रवीण कुमार बार-बार वाट्सअप कॉल कर 20 हजार रुपए की रिश्वत की मांग कर रहा था। इस पर परिवादी ने भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो को प्रार्थना पत्र दिया।

इस पर ब्यूरो ने 24 अगस्त को रिश्वत मांगने का सत्यापन करवाया जिसमें परिवादी से 20 हजार रुपए रिश्वत की मांगना पाया गया। ब्यूरो ने बुधवार दोपहर बाबू प्रवीण खत्री (वरिष्ठ सहायक) को अपने कार्यालय के कक्ष में परिवादी से 20 हजार रुपए लेते हुए रंगे हाथों को गिरफ्तार किया गया। टै्रप की सूचना मिलते ही सीएमएचओ कार्यालय में हड़कंप मच गया। टीम ने शाम को आरोपी के घर की भी तलाशी ली। टीम में एसीबी डीएसपी भूपेन्द्र कुमार सोनी, एएसआइ हंसराज शर्मा, कांस्टेबल संजीव कुमार, भवानी सिंह, आशीष कुमार, पूर्ण सिंह, नरेश कुमार विजय प्रसाद शामिल रहे। एसीबी के डीएसपी वेदप्रकाश लखोटिया व इंस्पेक्टर विजेन्द्र कुमार सीला का सहयोग रहा।

खाद्य संरक्षा अधिकारी की भूमिका की होगी जांच
डीएसपी सोनी ने बताया कि मिठाई की दुकान से सैंपल नहीं लेने की एवज में रिश्वत लेने के मामले में खाद्य संरक्षा अधिकारी लक्ष्मीकांत गुप्ता की भूमिका की भी जांच की जाएगी। इस मामले में अभी कार्रवाई चल रही है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned