गाजर मंडी एलएनपी नहर की खाली भूमि पर बनाने की मांग, किसानों ने निकाली ट्रैक्टर रैली

साधुवाली गाजर मंडी का मामला..

-कलक्टर के नहीं मिलने पर एडीएम प्रशासन पंवार को दिया ज्ञापन

By: Krishan chauhan

Published: 02 Mar 2021, 10:12 AM IST

साधुवाली गाजर मंडी का मामला...गाजर मंडी एलएनपी नहर की खाली भूमि पर बनाने की मांग, किसानों ने निकाली ट्रैक्टर रैली

-कलक्टर के नहीं मिलने पर एडीएम प्रशासन पंवार को दिया ज्ञापन

श्रीगंगानगर. गाजर हब के रूप में विख्यात साधुवाली गांव की जमीन में उपजने वाली गाजर का रंग, रस और मिठास का कोई सानी नहीं है जबकि अब विशिष्ट गाजर मंडी स्थापित करने को लेकर मामला तूल पकड़ गया है। एक तरफ सादुलशहर विधायक व उनके समर्थक ग्राम पंचायत की भूमि पर गाजर मंडी स्थापित करने की मांग कर रहे हैं जबकि दूसरी तरफ सब्जी उत्पादक किसान संघ श्रीगंगानगर एलएनपी नहर के पास की भूमि पर गाजर मंडी स्थापित करने की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे हैं। किसानों ने सोमवार को कलक्ट्रेट पर ट्रैक्टर रैली निकाली तथा सभा की। गाजर मंडी एलएनपी नहर की खाली भूमि पर स्थापित करने की मांग जोर पकडऩे लगी है। साधुवाली क्षेत्र के गाजर उत्पादक किसानों ने सोमवार को नई धानमंडी श्रीगंगानगर से ट्रैक्टर रैली बाजार से निकालते हुए कलक्ट्रेट विरोध-प्रदर्शन किया। कलक्ट्रेट पर किसानों ने ट्रैक्टर-ट्रॉली के साथ प्रदर्शन कर एक बार दो घंटे तक जाम लगा दिया। यहां पर बड़ी संख्या में किसानों ने ट्रैक्टर-ट्रॉली खड़ाकर सभा की। इस मौके पर पूर्व विधायक महेंद्र सिंह बराड़ ने कहा कि गाजर मंडी एलएनपी नहर की खाली भूमि पर नहीं बनाने पर सीएम से मिलने ट्रैक्टर रैली लेकर जाने का आह्वान किया। कलक्ट्रेट के मुख्य गेट पर पुलिस ने बेरीकेट्स लगा कर बंद कर दिया। इसके बाद किसानों का एक शिष्टमंडल कलक्टर की अनुपस्थिति में मंडी समिति प्रशासक व एडीएम प्रशासन भवानी सिंह पंवार से मिलकर गाजर मंडी एलएनपी नहर पर स्थापित करने की मांग की।
कलक्ट्रेट पर सभा, नहर की खाली भूमि पर ही बनाई जाए मंडी

साधुवाली में गाजर मंडी एलएनपी नहर की खाली भूमि पर बनाने की मांग को लेकर किसानों ने कलक्ट्रेट पर ट्रैक्टर रैली के साथ सभा की। यहां पर किसान आर्मी के संयोजक मनिंद्र सिंह मान, गुरलाल सिंह बराड़, किसान नेता अमर सिंह बिश्नोई, जय किसान आंदोलन के प्रदेश संयोजक रमन रंधावा, गुरबलपाल सिंह संधू, पूर्व विधायक महेंद्र सिंह बराड़, सलीम अली चोपदार, सत्यरत्तीवाल, भूपेंद्र सिंह बराड़, देवकरण नायक, हरपाल सिंह, रामेश्वर कड़वासरा, कृष्ण बरावड़, हरून खान सहित किसान व किसान नेताओं ने सादुलशहर विधायक व जिला प्रशासन को चेतावनी दी कि किसानों की मांग की है कि गाजर मंडी वर्तमान में जहां पर संचालित की जा रही है। वहीं पर बनाई जाए।
विधायक के दबाव में कार्रवाई, तो फिर होगा विरोध

यदि प्रशासन ने सादुलशहर विधायक व कुछ लोगों को लाभ पहुंचाने के लिए ग्राम पंचायत की भूमि पर बनाई तो किसान इसका विरोध करेंगे। वहां पर किसी भी सूरत में किसान गाजर मंडी स्थापित नहीं करने देगा। वक्ताओं ने कहा कि गाजर मंडी जहां पर किसान चाहता है। वहां पर बनाई जाए, यदि विधायक के दबाव में प्रशासन ने कोई कार्रवाई की तो किसान चुप नहीं बैठेगा।
रैली की वजह से कई जगह लगा जाम

साधुवाली क्षेत्र के किसान नई धानमंडी में ट्रैक्टर-ट्रॉली लेकर सोमवार सुबह एकत्रित हुए। यहां पर बड़ी संख्या में ट्रैक्टर-ट्रॉली पहुंची। इस कारण बाजार में जगह-जगह भीड़ अधिक होने की वजह से जाम की स्थिति पैदा हो गई। ट्रैक्टर-ट्रॉली में लगे जाम की वजह से आम लोगों का आवागमन बाधित हुआ। हालांकि ट्रैफिक पुलिस ने कानून व्यवस्था बनाने की कड़ी मशक्कत की।
—---

एलएनपी नहर पर बनाई जाए गाजर मंडी
सब्जी उत्पादक किसान संघ श्रीगंगानगर के अध्यक्ष अमर सिंह बिश्नोई ने गाजर मंडी पंचायत की भूमि में न स्थापित कर गंगनहर के पास खाली पड़ी एलएनपी नहर की भूमि पर बनाई जाए। यहां पर किसान अपनी उपज की धुलाई व ब्रिकी इसी स्थान पर कर रहे हैं। यहां पर पर्याप्त जगह है और इससे किसानों को बड़ी सुविधा मिलेगी। गाजर मंडी पंचायत की भूमि पर स्थापित करने पर वह जगह गांव के बीच में है साथ वहां पर गांव के तीन राजकीय विद्यालय भी है और आवागमन के रास्ते भी बहुत संकरे हैं। इससे विद्यार्थियों की पढ़ाई प्रभावित होगी। आवागमन बाधित होगा। साथ ही ग्राम पंचायत की भूमि पर किसानों के लिए ना तो पर्याप्त जगह है और ना ही पानी की व्यवस्था है।

सादुलशहर विधायक मंडी ग्राम पंचायत की भूमि पर बनाने के पक्षधर
सादुलशहर के वर्तमान विधायक ने जिला कलक्टर को पत्र लिखकर गाजर मंडी ग्राम पंचायत की 6.38 बीघा भूमि पर गाजर मंडी स्थापित करने की मांग की है। विधायक ने बताया कि किसानों को गाजर व अन्य सब्जियों के उचित दाम मिलेंगे,व्यापारियों के पूल व बिचौलियों से मुक्ति मिलेगी। गंगनहर के पटड़ों का नुकसान नहीं होगा। गंगनहर का पानी का प्रदूषण रूकेगा। रोजगार बढ़ेगा और स्थायित्व आएगा। गाजर के प्रसंस्करण प्लांट स्थापित होने पर आचार मुरब्बा, जैम, जैली व वैक्स करके अंतर राज्य व्यापार करने से राजस्व बढ़ेगा।

Krishan chauhan Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned