सवा चार लाख क्विंटल गन्ना पिराई, एक बार आया था ब्रेक डाउन, अब शुगर मिल पकड़ गई रफ्तार

-15 जनवरी तक गन्ना उत्पादक किसानों को दस करोड़ 17 लाख रुपए का किया भुगतान

By: Krishan chauhan

Published: 23 Jan 2021, 09:59 AM IST

सवा चार लाख क्विंटल गन्ना पिराई, एक बार आया था ब्रेक डाउन, अब शुगर मिल पकड़ गई रफ्तार

-15 जनवरी तक गन्ना उत्पादक किसानों को दस करोड़ 17 लाख रुपए का किया भुगतान

श्रीगंगानगर. राजस्थान स्ट्ेट गंगानगर शुगर मिल लिमिटेड श्रीकरणपुर क्षेत्र के कमीनपुरा क्षेत्र में स्थापित की गई नई शुगर मिल में गन्ना पिराई रफ्तार पकड़ गई है। बीच में एक बार बॉयलर में तकनीकी दिक्कत की वजह से गन्ना पिराई भी प्रभावित हुई थी। अभी तक 4 लाख 18 हजार क्विंटल गन्ना पिराई हो चुकी है और शुक्रवार को 15 हजार 300 क्विंटल गन्ना पिराई हुई। औसत गन्ना की पिराई प्रतिदिन 14 से 15 हजार क्विंटल हो रही है। इस सीजन में एक दिन में 18 हजार क्विंटल से अधिक रिकॉर्ड गन्ना पिराई हो चुकी है। दो-तीन दिन से मौसम साफ होने और धूप निकलने की वजह से गन्ना की आवक अच्छी हो रही है। प्रतिदिन गन्ना की आवक 15 हजार क्विंटल से अधिक हो रही है।

उल्लेखनीय है कि 19 दिसंबर 2020 को शुगर मिल में गन्ना पिराई सत्र शुरू हुआ था। इस बार गन्ना की फसल ठीक है और जिले में 10 हजार 300 बीघा में गन्ना की फसल है। गन्ना का उत्पाद 18 लाख क्विंटल होने का अनुमान है जबकि शुगर मिल प्रबंधन के अनुसार मिल को गन्ना पिराई के लिए 12 से 13 लाख क्विंटल मिल सकता है।

चीनी की रिकवरी 7.15 प्रतिशत
शुगर मिल में गन्ना पिराई ठीक चल रही है लेकिन चीनी की रिकवरी ज्यादा बेहतर नहीं आ रही है। चीनी की रिकवरी 7.15 प्रतिशत चल रही है जबकि औसत चीनी की रिकवरी 8.15 प्रतिशत तक आनी चाहिए। शुरू में ही चीनी की रिकवरी कम आ रही है। हालांकि अधिकारियों का कहना है कि अब मौसम साफ हुआ है। इससे चीनी की रिकवरी में सुधार होगा।

10 करोड़ 17 लाख रुपए का किसानों को किया भुगतान
इलाके में सर्दी बढऩे के साथ ही गन्ने में मिठास बढ़ रही है। इस बीच शुगर मिल प्रबंधन ने 15 जनवरी तक 700 किसानों के खातों में ऑनलाइन 10 करोड़ 17 लाख रुपए की राशि का भुगतान कर दिया है। गन्ना तुलाई के बाद समय पर किसानों को गन्ना की राशि मिल चुकी है। इससे किसानों को रबी की फसल व अन्य आवश्यक कार्य में उपयोग कर सकेंगे।

नहीं बढ़ा गन्ना का भाव
गन्ना उत्पादक किसानों का कहना है कि पिछले तीन वर्ष से गन्ना के भाव में इजाफा नहीं किया जा रहा है। किसानों को 295 से 310 रुपए प्रति क्विंटल गुणवत्ता के हिसाब से भुगतान किया जा रहा है। जबकि हरियाणा में गन्ना के भाव 350 रुपए प्रति क्विंटल तक किसानों को भुगतान किया जा रहा है। किसानों ने पंजाब-हरियाणा की तर्ज पर श्रीगंगानगर के किसानों को गन्ना का भाव बढ़ाकर राशि का भुगतान करने की मांग विधायक गुरमीत सिंह कुन्नर व जिला कलक्टर महावीर प्रसाद वर्मा से शुगर गन्ना पिराई सत्र शुरू हुआ था, तब की थी। लेकिन अभी तक शुगर मिल प्रबंधन ने पुराने रेट के आधार पर ही गन्ना का भुगतान किया है।

——
शुगर में गन्ना पिराई सवा चार लाख क्विंटल तक हो चुकी है और 15 जनवरी तक 700 सौ किसानों को दस करोड़ 17 लाख रुपए का ऑनलाइन भुगतान कर दिया गया है। मिल में प्रतिदिन 15 हजार क्विंटल गन्ना पिराई हो रही है।

डॉ.रजनीश कुमार, मुख्य गन्ना विकास अधिकारी, राजस्थान स्टेट गंगानगर शुगर मिल लिमिटेड, श्रीगंगानगर।

Krishan chauhan Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned