लॉक डाउन...कोरोना वायरस संक्रमण के खौफ से आम व्यक्ति घरों में कैद,बाजार में राशन सामग्री में कालाबाजारी

-मूंग की दाल 92 से पहुंची 120 से 140 रुपए प्रति किलो
-गुड़ 35 रुपए से हुआ 40 रुपए प्रति किलो महंगा

लॉक डाउन...कोरोना वायरस संक्रमण के खौफ से आम व्यक्ति घरों में कैद,बाजार में राशन सामग्री में कालाबाजारी
-मूंग की दाल 92 से पहुंची 120 से 140 रुपए प्रति किलो
-गुड़ 35 रुपए से हुआ 40 रुपए प्रति किलो महंगा
पत्रिका ग्राउंड रिपोर्ट—
श्रीगंगानगर.कोरोना वायरस के संक्रमण के खौफ में आम व्यक्ति घरों में लॉक डाउन है जबकि इस महामारी के वक्त किसी गरीब की मदद करने की बजाए जिला मुख्यालय पर राशन सामग्री मेे कुछ बड़े व्यापारी जमकर कालाबाजारी कर रहे हैं। बाजार में चीनी,गुड़,मूंग,मसर,उड़द व चना सहित अन्य दालों में कालाबाजारी की जा रही है। पत्रिका संवाददाता ने मंगलवार व बुधवार को कई दुकानों पर जाकर राशन सामग्री की खरीद की और कुछ पर भाव की जानकारी प्राप्त की कालाबाजारी की सच्चाई सामने आई। आम व्यक्ति को इस संकट के समय में कुछ व्यापारी लूटने के काम कर रहे हैं। जबकि बाजार में सामग्री की कोई कमी नहीं है। वहीं, कालाबाजारी की जानकारी उपखंड अधिकारी उम्मेद सिंह रतनू को भी दी गई। रतनू ने कहा कि व्यापारियों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। वहीं, मंगलवार शाम को प्रधानमंत्री ने 21 दिन के लिए 14 अप्रेल तक लॉकडाउन की घोषणा की तो बाजार में कई दूकानों पर भीड़ जमा हो गई तथा इस वक्त भी कालाबाजारी की गई है।

कम क्या करें,पिछले से महंगा मिल रहा है?
छोटे दुकानदारों का तर्क है कि हम क्या करें? बाजार में बड़े होलसैल के व्यापारियों ने राशन सामग्री का बड़े स्तर पर स्टॉक कर रखा है और अब हमको एक दम राशिन सामग्री मंहेगी दरों पर दिया जा रहा है। हम आपको बिल दिखा सकते हैं।
यूं बढ़ा दाल व गुड़ चीनी का रेट--एक दुकानदार ने बताया कि जहां चार दिन पहले मूंगी छलका व धूल हुई दाल 92 से 95 रुपए प्रति किलो दी जा रही थी और अब वहीं दाल बाजार में 25 रुपए प्रति किलो महंगी मिल रही है। इस कारण हम मजबूरी में 120 रुपए प्रति किलो के हिसाब से ब्रिकी कर रहे हैं। जबकि कॉलोनी व अन्य छोटी दुकानों पर मूंगी दाल 130 से 140 रुपए प्रति किलो बिक्री की जा रही है।
गुड़ व चीनी के दाम भी बढ़ाएं--चीनी और गुड़ के दाम भी बढ़ा दिए हैं। जहां गुड़ 36 रुपए मिल रहा था और अब इसको बड़ाकर 40 रुपए कर दिए है और चीनी के दाम 37 से 38 रुपए प्रति किलो है जबकि अब कई जगह 42 रुपए प्रति किलो तक मिल रही है।
—------
जांच कर की जाएगी कार्रवाई
बाजार में राशन की कोई कमी नहीं आने वाली है और कोई दुकानदार इस महामारी के वक्त कोई काला बाजारी कर रहा है तो जांच कर छापमार कार्रवाई की जाएगी।
राकेश सोनी, जिला रसद अधिकारी,श्रीगंगानगर।

पत्रिका व्यू---
कोरोना वायरस की वजह से राज्य भर में लॉक डाउन चल रहा है। परिवहन सेवाएं पूर्णतय ठप पड़ी है। सब कुछ बंद है जबकि आम व्यक्ति की जरुरत के लिए राशन,दूध व मेडिकल आदि की दुकानें खुली है जबकि जहां पर राशन में कालाबाजारी हो रही है। जिला कलक्टर को तुरंत स्टॉक करने वाल हैलसैलर के व्यापारियों पर सख्त कार्रवाई कर राशन की सामग्री उचित मूल्य पर आम व्यक्ति को दिलाने की व्यवस्था करनी चाहिए। इससे जनता व आम व्यक्ति में एक अच्छा संदेश जाएगा। जबकि रसद विभाग को इस बात की जानकारी भी है लेकिन सख्त कार्रवाई नहीं की जा रही है। अब समझाइश से नहीं,सख्ती से काम चलेगा।

Krishan chauhan Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned