चमकते चांद को टूटा हुआ तारा बना डाला...

Musical programme : नववर्ष-2020 के उपलक्ष्य में संस्थाओं हार्टफुलनेस, रामराज फांउडेशन व सॉल म्यूजिक की ओर से रविवार को गांधी पार्क के निकट एक हॉल में ‘संगीत और ध्यान’ कार्यक्रम हुआ। इसमें गायकों ने गजलों व सूफी गायन के माध्यम से श्रोताओं को भाव-विभोर कर दिया।

By: jainarayan purohit

Published: 30 Dec 2019, 01:54 PM IST

सूफी गायकों ने बांधा समां
श्रीकरणपुर. नववर्ष-2020 के उपलक्ष्य में संस्थाओं हार्टफुलनेस, रामराज फांउडेशन व सॉल म्यूजिक की ओर से रविवार को गांधी पार्क के निकट एक हॉल में ‘संगीत और ध्यान’ कार्यक्रम हुआ। इसमें गायकों ने गजलों व सूफी गायन के माध्यम से श्रोताओं को भाव-विभोर कर दिया। मुख्य अतिथि तहसीलदार गोकुलदान चारण व संत जुगल ने मां सरस्वती के चित्र के समक्ष दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम की शुरुआत की गई।

उन्होंने सभी की खुशहाली व समृद्धि की कामना की। विशिष्ट अतिथि पूर्व पालिकाध्यक्ष जुगल किशोर, पूर्व पार्षद रणवीर राठौड़, रेल संघर्ष समिति के संयोजक बलदेव सैन, भगवान श्रीलक्ष्मीनारायण चेरीटेबल हॉस्पीटल के प्रबंधन पदाधिकारी रामलाल नागपाल व रामलाल छाबड़ा आदि ने भी विचार रखे। कार्यक्रम में रेणु छाबड़ा ने ओ पालन हारे भजन व एक राधा एक मीरा गीत सुनाकर संगीत कार्यक्रम का आगाज किया।
इसके बाद अनमोल सैन ने किन्ना सोहणा तैणू रब ने बनाया, अंकित भाटिया तेरी दीवानी, लविश बंसल ने मेरी मां, राहुल दायमा ने सैंया, मीनू सुखीजा ने जीवन गुजर तो जीने का ढंग आया तथा सुषमा नागपाल ने थोड़ा सा वो कर्महीन है भजन सुनाए।

महक छाबड़ा ने ‘चमकते चांद को टूटा हुआ तारा...’ गजल सुनाकर समां बांध दिया। श्रोताओं रामराज फांउडेशन के संयोजक राधेश्याम छाबड़ा ने ध्यान के माध्यम से दिल व दिमाग को एकाग्र कर तनाव मुक्त जीवन जीने के बारे में बताया। सुप्रिया अरोड़ा ने ध्यान क्रियाओं के बारे में बताया।

jainarayan purohit Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned