जिनकी निगाह में है आसमां वो अपनी राह खुद बनाते हैं

जिनकी निगाह में है आसमां वो अपनी राह खुद बनाते हैं

Rajender pal nikka | Publish: Aug, 13 2019 10:49:21 PM (IST) Sri Ganganagar, Sri Ganganagar, Rajasthan, India

'How are dreams come true: जिनकी निगाह में है आसमां वो अपनी राह खुद बनाते हैं' विभिन्न क्षेत्रों में सफल युवाओं ने कुछ ऐसे भाव मंगलवार को व्यक्त किए। मौका था 'राजस्थान पत्रिका' की ओर से कार्यालय में विश्व युवा दिवस के उपलक्ष्य में रखी गई संगोष्ठी का और इसका विषय था 'सपने कैसे हो साकार'।

-विश्व युवा दिवस के उपलक्ष्य में 'सपने कैसे हो साकार' विषयक संगोष्ठी

श्रीगंगानगर।

'सीढिय़ां तो उनके लिए जो छत पर जाना चाहते हैं, जिनकी निगाह में है आसमां वो अपनी राह खुद बनाते हैं' विभिन्न क्षेत्रों में सफल युवाओं ने कुछ ऐसे भाव मंगलवार को व्यक्त किए। मौका था 'राजस्थान पत्रिका' की ओर से कार्यालय में विश्व युवा दिवस ( world youth day ) के उपलक्ष्य में रखी गई संगोष्ठी ( seminar ) का और इसका विषय था 'सपने कैसे हो साकार'। इन युवाओं ने अपनी सक्सेस स्टोरी सांझा की और बताया कि युवाओं के सपने कैसे अपने हो सकते हैं तथा वे कैसे अपनी राह को सुगम बनाकर सफल हो सकते हैं। ( dreams )

संगोष्ठी में इन सफल युवाओं ने 'मन के जीते जीत है और मन के हारे हार' को सर्वाधिक महत्वपूर्ण बताया। इनका निष्कर्ष था कि मन मजबूत और आत्मविश्वास से लबालब है तो हर इच्छित मंजिल अवश्य हासिल होती है। इन्होंने खूब मेहनत करने और लक्ष्य प्राप्ति तक जुटे रहने की जरूरत भी बताई। ( city news )

-दिल दिया है जां भी देंगे ऐ वतन तेरे लिए...

भजन गायक कन्हैया मित्तल ने दिल दिया है 'जां भी देंगे ऐ वतन तेरे लिए...' देशभक्ति गीत संगोष्ठी के दौरान प्रस्तुत किया और आखिर में भारत माता का जयकारा लगाया। उन्होंने कहा कि सूरज और वर्षा छोटे-बड़े, अमीर-गरीब का भेद नहीं करते। कुदरत सबके लिए समान है, बस जरूरी है तो खुद मेें विशिष्टता की और अधिक पाने के लिए पात्र होने की।

'अपने इरादों में सफल होने के लिए क्या करना है? कैसे करना है? और कितना करना है? सवालों का न केवल स्पष्ट जवाब होना चाहिए भरसक मेहनत भी की जानी चाहिए। किसी प्रकार का असमंजस नहीं होना चाहिए। जो तय कर लिया, उसे बस पाना है और इसके लिए अपना पूरा श्रम लगाना ( sriganganagar hindi news ) है'..........................................................................-स्वाति नोखवाल आइआरएस (प्रथम प्रयास में सफल)

'सपना तभी पूरा होगा जब पूरी मेहनत की जाएगी। इसका कोई विकल्प नहीं है। बिना घड़ी देखे खूब मेहनत की जाए। परिवार का प्रोत्साहन और पूरा सहयोग भी आवश्यक है। ऐसा होता है तभी मेहनत मुकाम हासिल करती है। सिर्फ इच्छा रखने से कुछ नहीं होने वाला, प्राप्ति के लिए गम्भीर प्रयास अत्यावश्यक ( rajasthan patrika hindi news ) है'............................................................-मानव सुथार अंडर-19 भारतीय क्रिकेट टीम में चयनित

'सफलता के लिए मेहनत सभी करते हैं लेकिन जो शुरूआती जोश को आखिर तक बनाए रखता है, वह इच्छित मंजिल जरूर पाता है। लक्ष्य ऐसा चुनें जिसे पाने में भले ही जोखिम हो लेकिन हो संभावनाओं वाला। तय करने के बाद बस रात-दिन जुटे रहें। नई तकनीक से जरूर अपडेट होते रहें'.........................................................................................-सिद्धार्थ राय मंगला अमरीका से फाइनेन्स रिस्क मैनेजमेंट उत्तीर्ण

'काम के प्रति लगन हो तो सफलता तो दरवाजे पर खड़ी होकर तिलक करेगी। बड़ी उपलब्धि के चक्कर में छोटी नहीं छोड़ी जाए। हतोत्साहित तो कभी होना ही नहीं चाहिए। जिस विषय में आगे आएं उसमें विशेषज्ञता होनी चाहिए। युवा पीढ़ी नशे से दूर रहे और अपने ईष्ट के प्रति आस्था रखते हुए आगे बढ़े'..............................................................................-कन्हैया मित्तल ख्यातिप्राप्त भजन गायक

'परिवार के सहयोग और पर्याप्त प्रोत्साहन के बिना जीवन में सफल नहीं हुआ जा सकता। यह भी जरूरी है कि समय रहते लक्ष्य तय किया जाए और फिर उसे पूरा करने के लिए मनोयोग से जुटा जाए। मेहनत डट कर की जानी चाहिए और कोई शंका होने पर विषय विशेषज्ञ से समाधान पाना चाहिए'...........................................................................-सुप्रीमा चितलांगिया अपर लोक अभियोजक

'सिद्ध होने से सिद्धि जरूर प्राप्त होती है, इसका मतलब जिस क्षेत्र में आगे बढ़ें उसमें पारंगत हो जाना चाहिए। अपनी भीतर की शक्ति का जागरण करेंगे तभी लक्ष्य प्राप्त होगा। अपनी चाहत को जुनून बना लेना चाहिए और फिर सफलता प्राप्त होने तक पूरी लगन से कठोर परिश्रम करते रहना चाहिए'..........................................-योगाचार्य संदीप भांभू

'मेहनत तो सबसे जरूरी है लेकिन जिस क्षेत्र में आगे बढ़ रहे हैं उससे संबंधित सही मार्गदर्शन और प्रशिक्षण भी बहुत जरूरी है। अच्छे गुरु का सान्निध्य मिलने से मंजिल मिलनी आसान हो जाती है। समय के साथ बहुत कुछ बदल रहा है, नए क्षेत्रों में भी संभावनाएं बढ़ रही है। सुनहरे भविष्य के लिए नई तकनीक का ज्ञान भी जरूरी है'....................................-मीनू सोनी बॉक्सिंग व वुशू की राष्ट्रीय खिलाड़ी

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned