दस हजार रुपए की रिश्वत लेते महिला पटवारी व सहायक अरजनवीस गिरफ्तार

बंटवारे की जमीन में खाता विभाजन करने की एवज में मांगे 12 हजार रुपए

By: Raj Singh

Published: 05 Sep 2020, 12:03 AM IST

श्रीगंगानगर. भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की टीम ने शुक्रवार शाम को कार्रवाई करते हुए तहसील में पटवार हल्का 19 एमएल की महिला पटवारी व सहायक अरजनवीस को राजस्व रेकॉर्ड में खाता विभाजन करने की एवज में दस हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया है। आरोपियों ने परिवादी से दो हजार रुपए पहले ही ले लिए थे।
ब्यूरो के उप पुलिस अधीक्षक वेदप्रकाश लखोटिया ने बताया कि परिवादी गांव अक्कावाली श्रीगंगानगर निवासी अमनदीप सिंह पत्र तेजासिंह ने परिवाद दिया था कि श्रीगंगानगर तहसील में पटवार हल्का 19 एमएल की पटवारी रितु शर्मा ने उसकी पैतृक भूमि में से घरेलू बंटवारे के अनुसार उसके हिस्सा में आई भूमि का उसके नाम से राजस्व रेकॉर्ड में खाता विभाजन करने की एवज में तीन सितंबर को 12 हजार रुपए रिश्वत मांगी। पटवारी ने दो हजार रुपए अग्रिम ले लिए। सत्यापन के दौरान मामला सही पाए जाने पर शुक्रवार शाम को टीम ने तहसील में घेराबंदी कर ली। शुक्रवार को पटवारी ने परिवादी से दस शेष रिश्वत की राशि मांगी थी। शुक्रवार को परिवादी रिश्वत की राशि लेकर गया तो वहां पटवारी ने चक पांच ई छोटी निवासी सहायक अरजनवीस मदनलाल पुत्र गोपीराम को दिलवा दी। इसी दौरान टीम ने मदनलाल व पटवारी रितु को गिरफ्तार कर लिया। रिश्वत की दस हजार रुपए की राशि मदनलाल से बरामद कर ली गई। कार्रवाई अभी जारी है।
कार्रवाई से तहसील कर्मचारियों में मचा हडक़ंप
- शुक्रवार शाम को भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की ओर से पटवारी व अरजनवीस को रिश्वत लेते हुए तहसील परिसर में गिरफ्तार किए जाने की कार्रवाई के बाद वहां मौजूद कर्मचारियों में हडक़ंप मच गया। कार्रवाई के बाद कई कर्मचारी से वहां चले गए। कार्रवाई के दौरान कोई व्यवधान नहीं आए। इसके लिए पुलिस जाब्ता तैनात किया गया। यहां रात साढ़े आठ बजे तक कार्रवाई चलती रही। एसीबी अधिकारियों ने कार्रवाई से संबंधित रेकॉर्ड भी जब्त कर लिया। आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद उनकी मौके पर ही चिकित्सा टीम बुलाकर स्क्रीनिंग कराई गई। दोनों का शनिवार को कोविड टेस्ट कराया जाएगा।
रिश्वत लेते 8 माह में पकड़े गए 13 आरोपी
- भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की ओर से वर्ष 2020 में आठ माह में ही जिले में रिश्वत लेते हुए 13 आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है। जबकि अभी साल के चार माह शेष है। इस साल अब तक ब्यूरो की ओर से कई बड़े पदों पर रहे लोग भी पकड़े गए हैं। इन तेरह जनों में से इस साल महिला आरोपी पहली बार पकड़ी गई है। इस साल की पहली कार्रवाई फरवरी में हुई और इसके बाद मार्च में लॉक डाउन लग गया लेकिन मई माह तक कोई शिकायत नहीं मिली थी। लेकिन जनू, जुलाई व अगस्त में लगातार रिश्वत लेने की शिकायतें मिली और उन पर कार्रवाई कर आरोपियों को रंगे हाथों गिरफ्तार किया गया। शुक्रवार तक तेरह आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

Raj Singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned