scriptमाउंट एवरेस्ट बेस कैंप पर पहुंचीं ढाई साल की सिद्धि, बन गया वर्ल्ड रिकॉर्ड | mountaineer bhavna daheriyas daughter siddhi mishra reached mount everest base camp, became world record | Patrika News
भोपाल

माउंट एवरेस्ट बेस कैंप पर पहुंचीं ढाई साल की सिद्धि, बन गया वर्ल्ड रिकॉर्ड

सिद्धि मिश्रा की मां जानी -मानी पर्वतारोही भावना डेहरिया हैं और वे आस्ट्रेलिया की सबसे ऊंची चोटी पर होली के मौके पर रंग-गुलाल खेलकर आ चुकी हैं…।

भोपालMar 27, 2024 / 04:03 pm

Manish Gite

riddhi-mishra.png

 

राजधानी की ढाई साल की सिद्धि मिश्रा माउंट एवरेस्ट बेस कैंप तक पहुंचने वाली सबसे कम उम्र की बच्ची बन गईं। सिद्धि ने अपनी मां भावना डेहरिया के साथ बेस कैंप तक पहुंचकर इतिहास रचा। सिद्धि ने अपने माता-पिता भावना डेहरिया और महिम मिश्रा के साथ 22 मार्च को एवरेस्ट बेस कैंप (ईबीसी) ट्रेक पूरा किया। सिद्धि की मां ने 22 मई, 2019 को दुनिया की सबसे ऊंची पर्वत चोटी पर चढ़ाई की थी।

उल्लेखनीय है कि एवरेस्ट बेस कैंप (ईबीसी) समुद्र तल से 5 हजार 364 मीटर ऊंचाई पर स्थित है। अत्यधिक ठंडे मौसम का सामना करने वाली सिद्धि के लिए यह आसान नहीं था, इसलिए उसकी मां ने डेबोचे (3820 मीटर) में रहने का फैसला किया, क्योंकि टेंगबोचे में मौसम बहुत ठंडा था।

 

मां ने बचपन से चढ़े पहाड़

भावना डेहरिया ने बताया कि ढाई साल की बच्ची के लिए ईबीसी तक पहुंचना आसान नहीं है। छिंदवाड़ा जिले की भावना ने गांव तामिया के आसपास की पहाडिय़ां चढऩा शुरू की। 22 मई 2019 को एवरेस्ट फतह किया था, वे बेटी में भी यह शौक बढ़ा रही हैं।

 

संबंधित खबरेंः

यह है माउंट एवरेस्ट फतह करने वाली भावना डेहरिया
ऑस्ट्रेलिया की सबसे ऊंची चोटी पर खेला रंग-गुलाल, भावना डेहरिया का एक और मिशन कामयाब

 

https://twitter.com/BhawnaDehariya/status/1772592331696304430?ref_src=twsrc%5Etfw

 

भावना डेहरिया दुनिया की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवेरेस्ट (8848 मी) को फतह करने वाली मध्यप्रदेश की पहली और सबसे कम उम्र की महिलाओं में से एक है। भावना ने 22 मई 2019 को दुनिया के सबसे ऊंचे शिखर पर सबमिट के साथ भारत का तिरंगा लहराया था। भावना मध्यप्रदेश के तामिया, जिला छिंदवाड़ा की रहने वाली है और भोपाल से फिजिकल एजुकेशन में एमपीईडी मास्टर्स कर रही हैं। उसके पिता शिक्षक हैं। भावना के अलावा परिवार में एक भाई और तीन बहनें हैं। भावना आस्ट्रेलिया की सबसे ऊंची चोटी को फतह कर वहां होली के मौके पर रंग-गुलाल खेल चुकी हैं। भावना बताती हैं कि ‘एलिसन जेन हरग्रीव्स ने गर्भावस्था के दौरान भी चढ़ाई करने के लिए मुझे प्रेरित किया। वह अपने बच्चे के साथ 6 माह माह की गर्भवती होने के बावजूद एइगर (आल्प्स) पर चढ़ गई। यह दुनिया की ऐसी पर्वतारोहिओं में से है जो 13 अगस्त 1995 को शेरपा और ऑक्सीजन के समर्थन के बगैर एवरेस्ट पर पहुंची थीं।

 

Hindi News/ Bhopal / माउंट एवरेस्ट बेस कैंप पर पहुंचीं ढाई साल की सिद्धि, बन गया वर्ल्ड रिकॉर्ड

loksabha entry point

ट्रेंडिंग वीडियो