scriptरैकी के बाद लूटी थी 25 लाख की 12 बिट कॉइन मशीनें | 12 bit coin machines worth Rs 25 lakh were looted after racking | Patrika News
जोधपुर

रैकी के बाद लूटी थी 25 लाख की 12 बिट कॉइन मशीनें

निजी बैंक का पूर्व कर्मचारी व मिठाई व्यवसायी गिरफ्तार, दो अन्य फरार, लूट की 12 मशीनें बरामद

जोधपुरApr 13, 2024 / 12:30 am

Vikas Choudhary

रैकी के बाद लूटी थी 25 लाख की 12 बिट कॉइन मशीनें

रैकी के बाद लूटी थी 25 लाख की 12 बिट कॉइन मशीनें

जोधपुर.
एयरपोर्ट थाना पुलिस ने उचियारड़ा गांव में नांदड़ा बाइपास पर रूप श्री हैरिटेज कॉलोनी में मकान से 25 लाख रुपए की बिट कॉइन की 12 मशीनें लूटने के मामले में बीकानेर से निजी बैंक के कर्मचारी व मिठाई व्यवसायी को गिरफ्तार किया। इनसे 12 मशीनें व एक लेपटॉप बरामद किया गया है।
पुलिस उपायुक्त (पूर्व) आलोक श्रीवास्तव ने बताया कि पाल रोड पर महादेव नगर निवासी शरद बोराणा ने रूप श्री हैरिटेज कॉलोनी में 5-6 माह पहले किराए का मकान लेकर बिट कॉइन की 12 मशीनें लगाई थी। सुरक्षा के लिए गार्ड भी तैनात किए गए थे। गत 4 अप्रेल की अल-सुबह पांच बजे कुछ लोग मकान में घुसे थे और गार्ड का गला दबाकर व हाथ बांधने के बाद 12 मशीनें, एक लेपटॉप लूटकर भाग गए थे। मशीनें बंद होने की सूचना नोटिफिकेशन से मिलने पर संचालक को वारदात का पता लगा था। पुलिस ने एफआइआर दर्ज कर जांच व तलाश शुरू की। लुटेरों के बीकानेर में होने के सुराग मिले। साइबर सैल के राकेश कुमार, कांस्टेबल रमेश कुमार व सुरेश कुमार से मिले सुरागों के बाद एएसआइ अमरसिंह, हेड कांस्टेबल कैलाश व जगदीश ने बीकानेर में संभावित ठिकानों पर तलाशी ली। संदिग्धों से पूछताछ के बाद बीकानेर में मुक्ता प्रसाद थानान्तर्गत रामपुरा गली-20 निवासी लोकश सिंह (32) पुत्र शेरसिंह सांखला और मुक्ता प्रसाद सेक्टर-1 निवासी हनुमान (34) पुत्र कानाराम सैनी को गिरफ्तार किया गया। इनकी निशानदेही से लूट की 12 बिट कॉइन मशीनें व लेपटॉप बरामद किया गया। आरोपी लोकेश निजी बैंक में कर्मचारी था और हनुमान सैनी मिठाई व्यवसायी है। उसकी रसगुल्लों की फैक्ट्री है।
फुटेज में कार नजर आई तो मिले थे सुराग
वारदात होने के बाद पुलिस ने सीसीटीवी कैमरों के फुटेज खंगाले थे। 250 कैमरों के फुटेज देखे गए। वारदात स्थल के आस-पास एक कार नजर आई। जो नांदड़ा फांटा के पास एक मकान में घुसी थी। मकान मालिक से पूछताछ की गई। उसने अपने रिश्तेदार बीकानेर निवासी कंवरपाल की जानकारी दी, जो पांच दिन तक वहां रुका था। वारदात की सुबह वह 12 मशीनें वहां लाया था। दो दिन बाद वह मशीनों के साथ बीकानेर लौट गया था। इस जानकारी के आधार पर पुलिस बीकानेर पहुंची। कंवरपाल नहीं मिला, लेकिन लोकेशसिंह को हिरासत में लिया गया। पूछताछ में उसने कंवरपाल के साथ मिलकर वारदात करना स्वीकार किया। उसकी सूचना पर हनुमान सैनी की फैक्ट्री से बिटकॉइन की 12 मशीनें बरामद की गईं। कंवरपाल सिंह व प्रदीप बांगड़वा ने मशीनें हनुमान को बेच दी थी, लेकिन मशीनों के सैटअप से पहले पुलिस ने बरामद कर ली।
बिटकॉइन डाटा सेव में काम आती हैं मशीनें
पुलिस का कहना है कि जो मशीनें लूटी गईं थी वो बिटकॉइन के डाटा सेव करने में काम आती हैं। प्रत्येक मशीनें की कीमत ढाई से तीन लाख रुपए है। शरद ने पांच-छह माह पहले ही मशीनें लगाई थी।
दो-तीन दिन रैकी के बाद की थी लूटपाट
बीकानेर में लूणकरनसर निवासी प्रदीप उर्फ आदि उर्फ आदित्य पुत्र हरचंदराम जाट और करणी कॉलोनी निवासी कंवरपालसिंह पुत्र श्रवणसिंह मुख्य आरोपी हैं। वारदात से पांच दिन पहले सभी जोधपुर आए थे। जो कंवरपाल के रिश्तेदार के घर रूके थे। आरोपियों ने बिटकॉइन मशीनें लूटने के लिए दो-तीन दिन तक वारदातस्थल की रैकी की थी।

Hindi News/ Jodhpur / रैकी के बाद लूटी थी 25 लाख की 12 बिट कॉइन मशीनें

loksabha entry point

ट्रेंडिंग वीडियो