निरक्षर जवानों को साक्षर करने थाने में लग रही क्लास, नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में पुलिस की अनोखी पहल

- जवानों के साथ- साथ ग्रामीणों को भी दे रहे हैं प्रशिक्षण, तमाम कवायद से आ रहे उचित परिणाम।

By: Bhupesh Tripathi

Updated: 17 Aug 2020, 03:54 PM IST

सुकमा। छत्तीसगढ़ के घोर नक्सल प्रभावित बस्तर के सुकमा जिले में अनोखी पहल जारी है। सुकमा के मरईगुड़ा थाना में निरक्षर जवानों को शिक्षा से जोड़ने के लिए अभिनव पहल की जा रही है। जवानों की पढ़ाई थाने में ही क्लास लगाकर कराई जा रही है। एसपी सलभ सिन्हा, एएसपी सुनील शर्मा, एसडीओपी पंकज पटेल और मरईगुड़ा थाना प्रभारी संदीप टोप्पो के अथक प्रयास से यह सार्थक पहल की जा रही है।

निरक्षर जवानों को साक्षर करने थाने में लग रही क्लास, नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में पुलिस की अनोखी पहल

जानकारी के अनुसार एसडीओपी पंकज पटेल और मरईगुड़ा थाना प्रभारी संदीप टोप्पो की पत्नी निस्वार्थ भाव से अभियान को सार्थक बनाने के लिए लगातार पुलिस और फ़ोर्स के जवानों को शिक्षित बनाने की जिम्मेदारी संभाली है।

निरक्षर जवानों को साक्षर करने थाने में लग रही क्लास, नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में पुलिस की अनोखी पहल

ज्ञात हो इससे पहले एक महीना तक थाना मरईगुड़ा के प्रभारी और सीआरपीएफ 217 के संयुक्त तत्वाधान से सुकमा के अति संवेदनशील ग्रामीण इलाकों में महिलाओं को टेलरिंग और सिलाई प्रशिक्षण कराया गया था जिसमे पुलिस को ग्रामीणों की रचनात्मक पहलू देखने को मिली है। इसके अलावा भी ग्रामीण युवाओं को वाहन चालन की ट्रेनिंग कराइ गई है और थाना मरईगुड़ा उन सभी युवकों का ड्राइविंग लाइसेंस भी बनाकर दिया है।

निरक्षर जवानों को साक्षर करने थाने में लग रही क्लास, नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में पुलिस की अनोखी पहल

नक्सल प्रभावित इलाकों में लगातार चलाये जा रहे अनेक अभियान से न केवल ग्रामीण बल्कि इनामी नक्सली भी प्रभावित हो रहे है और मुख्यधारा में जुड़ रहे हैं। कोरोना अड़चन में भी बिना डरे और रुके पुलिस लगातार दिन- रात कार्य कर छत्तीसगढ़ से नक्सल ख़त्म करने में जुटा हुआ है।

Show More
Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned