समर्थन मूल्य पर चने की खरीद में 75 फीसदी की कटौती

सरकार के निर्णय से किसानों में रोष, प्रति किसान 26 सौ किलो से घटाकर खरीद सीमा को किया 540 किलो

By: विनीत शर्मा

Published: 02 Jun 2020, 07:32 PM IST

बारडोली. सरकार ने समर्थन मूल्य पर चने की खरीद में करीब 75 फीसदी की कटौती कर दी है। पहले जहां प्रति किसान 26 सौ किलो चना समर्थन मूल्य पर खरीदा जा रहा था, इस कटौती के बाद हर किसान से महज 540 किलो चना ही समर्थन मूल्य पर खरीदा जाएगा। इससे चना उत्पादकों में खासा रोष है।

जानकारी के अनुसार कृषि, किसान कल्याण एवं सहकार विभाग ने समर्थन मूल्य पर किसानों से चने की खरीदी के लिए गुजरात स्टेट को-ऑपरेटिव मार्केटिंग फेडरेशन को मजूरी दी है। इसके लिए किसानों को पंजीकरण करना जरूरी है। दो दिन पूर्व कोसंबा स्थित मांगरोल एपीएमसी में चने की खरीदारी शुरू की गई। इससे पूर्व ही सरकार ने एक परिपत्र जारी कर समर्थन मूल्य पर हर किसान से अधिकतम खरीद की सीमा घटा दी है। पहले जहां किसान से 2600 किलो चना खरीदा जाता था, 30 मई को जारी परिपत्र के बाद अब 1.5 हेक्टेअर से कम चने की फसल वाले किसानों से 360 किलो प्रति हेक्टेअर और 1.5 हेक्टेअर से अधिक उपज वाले किसानों से अधिकतम 540 किलो चने की खरीद की जाएगी।

सरकार के इस फैसले से पिछले दो माह से चना बेचने के लिए सरकारी खरीद का इंतजार कर रहे सूरत जिला के किसानों की हालत दयनीय हो गई है। दक्षिण गुजरात खेडुत समाज के प्रमुख जयेश पटेल ने बताया कि फिलहाल वित्तीय संकट के चलते कई किसान व्यापारियों को 3800 रुपए प्रति क्विंटल की दर से चना बेच रहे हैं, जबकि सरकार ने समर्थन मूल्य 4800 प्रति क्विंटल तय किया है। चने की सरकारी खरीद की सीमा तय होने से किसानों को खासा नुकसान उठाना पड़ेगा। उन्होंने कृषि विभाग से पहले से तय नियमों के अनुसार ही खरीदी करने की मांग की है।

विनीत शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned