आरती इंडस्ट्रीज ने शुरू की श्रमिक बस्तियों में जांच


कोरोना संक्रमण पर रोकथाम
आरोग्य विभाग का सहयोग


Corona infection prevention
Support of health department

By: Sunil Mishra

Published: 07 Sep 2020, 12:19 AM IST

वापी. वलसाड जिले में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या एक हजार को पार कर गई है। ऐसे में वापी तालुका आरोग्य विभाग और आरती इंडस्ट्रीज ने कोरोना मरीजों को पता लगाने की नई पहल शुरू की है और श्रमिक बस्तियों में पहुंचकर घर-घर लोगों की जांच कर रहे हैं।
आरती इंडस्ट्रीज और आरोग्य विभाग द्वारा औद्योगिक इंडस्ट्रीज में काम करने वाले श्रमिकों, उनके परिजनों तथा स्थानीय लोगों की स्वास्थ्य जांच का प्रोजेक्ट हाथ में लिया गया है। इसमें आरती इंडस्ट्रीज की ओर से मेल नर्स, आरोग्य विभाग की ओर से आशा कार्यकर्ता एवं एमपीडब्लू स्टाफ की टीम बनाकर चालियों व घनी बस्तियों में पहुंचकर आरोग्य जांच एवं उनका डाटा एकत्र किया जा रहा है। इसके लिए आरती इंडस्ट्रीज की ओर से एम्बुलेन्स भी उपलब्ध करवाई गई है। इन दिनों छीरी समेत आसपास के विस्तार में यह प्रोजेक्ट चल रहा है। दो सप्ताह के अंदर करीब तीन हजार से ज्यादा लोगों की जांच की गई है। इसमें से पांच संदेहास्पद केस मिले। हालांकि अभी तक कोई भी कोरोना पॉजिटिव मरीज नहीं मिला। इसके अलावा 23 एन्टीजन टेस्ट भी किया गया और इसमें भी कोई कोरोना पॉजिटिव नहीं मिला है। आरती इंडस्ट्रीज ने इस कार्य में अपने स्टाफ के साथ अपने मेडिकल स्टाफ को आरोग्य विभाग की मेडिकल टीम के साथ जोड़कर डोर टू डोर सर्वे तथा इसका पूरा डेटा भी तैयार किया है। इस कार्य में लगे स्टाफ को थर्मल गन, ऑक्सीमीटर, तथा उनकी सुरक्षा के लिए मास्क, दस्ताने, फेस कवर सहित सभी जरूरी सुविधा दी गई है।

कॉर्पोरेट आएं आगे
आरती इंडस्ट्रीज के उप महाप्रबंधक हेमंग नायक ने बताया कि आरोग्य विभाग अपना कार्य कर रहा है, लेकिन उनके संसाधन और स्टाफ सीमित हैं। ऐसे में कंपनी ने अपनी सामाजिक जिम्मेदारी को समझते हुए आरोग्य विभाग के साथ मिलकर यह प्रोजेक्ट चलाने का निर्णय लिया। इसके अच्छे नतीजे भी आ रहे हैं।


संक्रमित का पता करना हो सकता है आसान
इस प्रोजेक्ट को वापी मॉडल बताते हुए आरोग्य अधिकारी व इंडस्ट्रीज के लिए नियुक्त नोडल अधिकारी डॉ. संदीप ने बताया कि कहा कि इसका लोगों से अच्छा प्रतिसाद मिल रहा है और बेहतर परिणाम भी मिल रहा है। अन्य जगहों पर भी इंडस्ट्रीज और आरोग्य विभाग के संयुक्त प्रयास से ऐसे प्रोजेक्ट द्वारा कोरोना संक्रमितों का जल्दी पता कर समय रहते उपचार शुरू कर सकते हैं।

Sunil Mishra Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned