पुलिस की दखल से उद्योगपतियों व श्रमिकों में बनी सहमती

पुलिस की दखल से उद्योगपतियों व श्रमिकों में बनी सहमती

Dinesh M.Trivedi | Publish: Sep, 12 2018 06:11:12 PM (IST) Surat, Gujarat, India

सहायक श्रम आयुक्त की मौजूदगी में शांतीपूर्ण ढंग से करेंगे विवाद का निपटारा

सूरत. रविवार को साप्ताहिक अवकाश व पूरे वेतन की मांग को लेकर हड़ताल पर उतरे एम्ब्रोयडरी कारखाना श्रमिकों व उद्योगपतियों के बीच पुलिस की दखल से मंगलवार को शांतिपूर्ण ढंग से विवाद के निपटारे को लेकर सहमती बनी है।

जानकारी के अनुसार रविवार की छुट्टी व पूरे वेतन की मांग को लेकर पिछले कुछ दिनों से हिंसक आंदोलन पर उतरे श्रमिकों व एम्ब्रोयडरी कारखानेदारों के बीच बातचीत के लिए मंगलवार दोपहर शहर पुलिस आयुक्त कार्यालय में एक बैठक बुलाई गई थी।

शहर पुलिस आयुक्त सतीष शर्मा की मौजूदगी में हुई इस बैठक में गुजरात एम्ब्रोयडरी उद्योग एसोसिएशन के प्रमुख दिनेश अणधण, रवि जुनेजा, अलग अलग लेबर यूनीयनों से जुड़े सुरेश सोनवणे, नैषध देसाई, अजय दूबे, सहायक श्रम आयुक्त, कलेक्टर कार्यालय के प्रतिनिधी व अन्य पुलिस अधिकारियों के बीच चर्चा हुई।

चर्चा के अंत में यह निर्णय लिया गया कि एम्ब्रोयडरी कारखाने चालू होंगे। श्रमिकों की विभिन्न मांगों को लेकर श्रमिक संगठनों के अग्रणी लिखित में एम्ब्रोयडरी कारखानेदारों को जानकारी देंगे। फिर इन मांगों को लेकर दोनों पक्षों द्वारा सहायक श्रम आयुक्त की मौजदगी में चर्चा की जायेगी तथा उनका निपटारा किया जायेगा।

जरुरत पडऩे प पुलिस भी इसमें मदद करेगी। तब तक किसी प्रकाश का विरोध या हिंसक प्रदर्शन नहीं किया जायेगा। पुलिस की ओर से चेतावनी भी दी गई कि यदि कानून को हाथ में लिया गया और शहर की शांती भंग करने का प्रयास किया गया तो कड़ी कार्रवाई की जायेगी।

उल्लेखनीय है कि एम्ब्रोयडरी कारखानों में काम करने वाले श्रमिकों ने रविवार के साप्ताहिक अवकाश व छुट्टी के दिनों सहित पूरे वेतन समेत अन्य कई छोटी बड़ी मांगो को लेकर कारखाना मालिकों के खिलाफ हड़ताल छेड़ रखी है।

सडक़ों पर उतरे श्रमिकों ने कई स्थानों पर जबरन कारखाने बंद करवाने का प्रयास किया था। उन्होंने पंडोल, पूणागाम, पांडेसरा, समेत कई औदयोगिक इलाकों में हिंसक प्रदर्शन करते हुए तोडफ़ोड़ की थी। कई स्थानों पर उपद्रवियों को नियंत्रण में लेने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज भी करना पड़ा था। पूणागाम में पुलिस को हवाई फायङ्क्षरग भी करनी पड़ी थी।

Ad Block is Banned