कोरोना असर: कोरोना ने विद्यार्थियों को कंप्यूटर कोर्स प्रति किया आकर्षित

- वीएनएसजीयू के बीसीए पाठयक्रम में सीटों के मुकाबले तीन गुना विद्यार्थी प्रवेश की होड़ में
- सभी विद्यार्थियों को प्रवेश देने के साथ सीटों की संख्या बढ़ने की उठी मांग

By: Divyesh Kumar Sondarva

Updated: 14 Oct 2021, 01:44 PM IST

सूरत.
कोरोना संक्रमण ने विद्यार्थियों को कंप्यूटर कोर्स के प्रति आकर्षित कर दिया है। कंप्यूटर कोर्स में सीटों के मुकाबले तीन से चार गुना विद्यार्थियों के आवेदन से यह साफ पता चल रहा है kit विद्यार्थी इसे क्षेत्र में भविष्य को संवारना चाहते हैं। वीर नर्मद दक्षिण गुजरात विश्वविद्यालय के बीसीए पाठयक्रम में सीटों के मुकाबले तीन गुना अधिक विद्यार्थियों ने प्रवेश के लिए आवेदन किया है। सभी को प्रवेश मिले इसलिए सीटों को बढ़ाने की मांग भी की गई है।
वीएनएसजीयू के सभी डिग्री पाठ्यक्रम में इन दिनों प्रवेश प्रक्रिया चल रही है। बीसीए में प्रवेश के लिए इस साल सीटों के मुकाबले तीन गुना विद्यार्थियों ने आवेदन किया है। सूरत जोन में बीसीए के 17 कॉलेज है। इन में कुल 2925 सीट है, जिसमें प्रवेश के लिए 8498 विद्यार्थियों ने आवेदन किया है। इस पहले बीसीए में प्रवेश को लेकर विद्यार्थियों की रुचि कम होती जा रही थी। बीसीए में भी हर साल सीटें रिक्त होने लगी थी। लेकिन इस साल तो विद्यार्थी कुछ भी करके इसमें प्रवेश पाना चाहते है। क्योंकि कोरोना काल में जब लॉक डाउन लगा तब पूरी दुनिया थम गई थी। कंप्यूटर और इंटरनेट के माध्यम से लोग एक दूसरे से जुड़े रहे। लाखो लोगो बेरोजगार हो गए। जो आज भी रोजगार को तलाश कर रहे है। मेडिकल, पैरा मेडिकल और कंप्यूटर क्षेत्र से जुड़े लोगों को रोजगार को लेकर किसी भी तरह की परेशानी नहीं ही। उल्टा इन क्षेत्रों के विशेषज्ञों की मांग में अचानक से तेज़ी आ गई है। इस साल सभी बोर्ड ने बिना परीक्षा के विद्यार्थियों को पास कर दिया। मास प्रमोशन में पास होने वाले सभी विद्यार्थी कंप्यूटर और मेडिकल क्षेत्र में पहले प्रवेश लेने का पसंद कर रहे है। इसी वजह से इस बार इंजीनियरिंग की दूसरी सभी मुख्य ब्रांचों के मुकाबले कंप्यूटर ब्रांच में सबसे पहले सीटें भर गई। दूर दूर के कॉलेजों में भी विद्यार्थियों ने प्रवेश लिया है। अब यह ही हल बीसीए में नजर आ रहा है। जिन्हे प्रवेश नही मिला वो सभी एनएसयूआई के साथ मिलकर वीएनएसजीयू से प्रवेश देने को मांग की है। साथ ही सभी को प्रवेश मिले इसलिए कुलपति को सीट बढ़ने की मांग की है। भेल ही यह कोर्स स्वनिर्भर है और इसकी फीस महंगी है, फिर भी विद्यार्थी बीसीए में प्रवेश को पहली पसंद बनाए हुए है।
- कम्प्यूटर में दिखा भविष्य
कोरोना में कंप्यूटर क्षेत्र के भविष्य के बारे में अवगत करा दिया है। इस क्षेत्र में काम करने वालो को रोजगान नही खोना पड़ा है। घर से भी काम कर रोजगार को जारी रखा है। आने वाला समय कंप्यूटर पर ही निर्भर है। इसलिए बीसीए में प्रवेश पहली पसंद है।
- प्रतीक जरीवाला, विद्यार्थी
- जॉब के कई अवसर:
जहां भी जॉब के लिए जाते है वहा कंप्यूटर के बारे में अब पहले पूछा जाने लगा है। बीसीए एक कंप्यूटर से जुड़े डिग्री है। इससे काने के बाद जॉब मिलने के लिए मुश्किल नही होगी। इसलिए में और मेरे कई सहपाठियों ने इस में प्रवेश को पहले चुना है।
- निष्ठा गामित, विद्यार्थी

Show More
Divyesh Kumar Sondarva Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned