शहरों की तरह होगा आदिवासी क्षेत्रों का विकास: पाटकर

आदिवासियों को 3.56 करोड़ की सहायता का वितरण

By: Sunil Mishra

Updated: 18 Nov 2018, 10:38 PM IST


नवसारी. आहवा स्थित डांग दरबार हॉल में राज्य आदिजाति विकास कार्पोरेशन और प्रायोजना वहीवटी कार्यालय संयुक्त उपक्रम में स्वरोजगारी ऋण योजना के तहत विविध योजनाओं के लाभार्थियों को साधन सहायता और चैक का वितरण किया गया। इसमें वन एवं आदिजाति राज्य मंत्री रमण पाटकर ने उपस्थित रहकर दक्षिण गुजरात के डांग, तापी, नर्मदा, नवसारी, वलसाड, भरुच और सूरत के कुल 87 लाभार्थियों को ३ करोड़, 56 लाख की सहायता का वितरण किया गया। इस अवसर पर मंत्री रमणलाल पाटकर ने कहा कि राज्य सरकार आदिजाति क्षेत्रों का विकास शहरों की तर्ज पर करेगी। राज्य के 14 जिलों को विकसित करने के लिए सरकार ने बजट में बड़ी राशि का प्रावधान किया गया है।

 

patrika

वनबंधु कल्याण योजना अमल में लाई

आदिवासियों के विकास के लिए वनबंधु कल्याण योजना अंबाजी से उमरगाम तक अमल में लाई गई है। आदिवासी समाज विकास से वंचित न रहे, उस पर सरकार ने ध्यान दिया है। इस अवसर पर कलक्टर बीके कुमार ने कहा कि आदिजातियों के विकास और आर्थिक उत्थान के लिए राज्य सरकार ने वर्ष 1972 से गुजरात आदिजाति विकास कार्पोरेशन को क्रियान्वित किया है और उनके विकास के लिए विभिन्न योजनाओं को लागू किया गया है। इस दौरान जिला पंचायत अध्यक्ष बीबीबेन चौधरी, तहसील पंचायत अध्यक्ष नरेश गवली, जिला विकास अधिकारी एचके वढ़वाणिया समेत कई अधिकारी और बड़ी संख्या में लाभार्थी उपस्थित थे।

 

एक माह बाद भी ऑटो में नहीं लगे मीटर
सिलवासा. परिवहन विभाग ने यातायात सुधार एवं यात्री किराए पर नियंत्रण के लिए ऑटो रिक्शा व टेक्सी किराए में संशोधन करते हुए मीटर लगाने के आदेश जारी किए हैं। करीब एक माह बीतने के बाद ऑटो व टैक्सी चालकों ने नियमों का पालन नहीं किया है। अधिकांश ऑटो रिक्शा बिना मीटर के दौड़ रहे हैं। कईयों के मीटर खराब पड़े हैं।
परिवहन विभाग ने गत अक्टूबर में ऑटो रिक्शा और टैक्सी के संशोधित किराए के बारे में अधिसूचना जारी की थी। इसमें यात्रियों के लिए ऑटो रिक्शा में दो किमी तक 19 रुपए तथा उसके बाद प्रत्येक किमी पर 6.50 रुपए की दर तय की है। रात के 11 बजे से भोर 5 बजे तक किराए का 25 प्रतिशत अतिरिक्त लागू किया गया है। टैक्सी के लिए पहले दो किमी पर 20 रुपए तथा बाद में प्रति किमी 11 रुपए तथा एसी टैक्सियों में 13 रुपए निर्धारित किया गया है। यह समझौता ऑटो व टैक्सी एसोसिएशन ऑफ सिलवासा के साथ तय हुआ था। एक माह बीतने के बाद ऑटो रिक्शाओं में मीटर की व्यवस्था की गई है। ऑटो रिक्शा चालक यात्रियों से मनमाना किराया वसूल कर रहे हैं। रिक्शा चालकों का कहना है कि सिलवासा तीन किमी परिधि में बसा है, इससे मीटर किराए से यात्रियों को ढोना बजट से बाहर है।

Sunil Mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned