जरूरी न होने पर कोरोना की महंगी जांच न करें अस्पताल

बढ़ती शिकायतों के बाद कलक्टर ने की अपील

Collector appealed after increasing complaints

By: Sunil Mishra

Updated: 01 Sep 2020, 12:57 AM IST

वापी. राज्य में लोग कोरोना महामारी से जूझ रहे हैं। इसे रोकने के लिए कई जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं। लेकिन इस दौरान कोविड-19 मरीजों के पास से प्राइवेट अस्पतालों द्वारा जरूरी न होने पर भी कई महंगी जांच की जा रही है। जिससे मरीज के इलाज का खर्च बहुत ज्यादा बढ़ रहा है। कई बार समाचार माध्यमों व लोगों द्वारा इसके खिलाफ शिकायत होती रही है। आखिरकार वलसाड कलक्टर आरआर रावल ने इसे गंभीरता से लिया है। सोमवार को उन्होंने जिले के प्राइवेट अस्पताल व क्लीनिकों से अनिवार्य होने पर ही महंगी जांच रिपोर्ट निकलाने की अपील की। इसके अलावा उन्होंने सरकार द्वारा निर्धारित दर से ही कोरोना मरीजों से उपचार खर्च लेने की ताकीद भी की है। उन्होंने कोरोना काल में डॉक्टरों से व्यवसायिक नैतिकता तथा मानवीय अभिगम अपनाने की अपील की है। ज्ञात हो कि जब से निजी अस्पतालो में कोविड के उपचार की मंजूरी मिली है, मरीजों से इलाज व रिपोर्ट के नाम पर हजारों से लेकर लाखों रुपए का बिल लिए जाने का आरोप कई लोग लगा चुके हैं।

https://www.patrika.com/miscellenous-india/vulnerable-groups-child-mostly-affected-from-coronavirus-6372747/

कोरोना से दो मरीजों की मौत, पांच नए मामले
वापी. वलसाड जिले में कोरोना ने सोमवार को दो लोगों की जान ली। इसके साथ ही वलसाड जिले में कोरोना से मरने वालों की संख्या 108 हो गई है। साथ ही कोरोना के पांच नए मामले भी मिले। इसके अलावा 11 कोरोना मरीजों को ठीक होने पर अस्पताल से छुट्टी दी गई। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार कस्तूरबा अस्पताल में कोरोना का उपचार करवा रहे हालर रोड संगीता अपार्टमेन्ट निवासी 70 वर्षीय पुरुष तथा वापी के जनसेवा अस्पताल में वापी नूतन नगर निवासी 31 वर्षीय पुरुष की मौत हो गई। पूरे जिले में 965 लोग कोरोना संक्रमित हो चुके हैं और 131 लोग जिले में होम क्वारंटाइन हैं।

Sunil Mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned