script GSEB : सूरत जिले में स्कूली शिक्षा के गिरते स्तर ने बढ़ाई चिंता | GSEB : Declining level of school education in Surat district | Patrika News

GSEB : सूरत जिले में स्कूली शिक्षा के गिरते स्तर ने बढ़ाई चिंता

locationसूरतPublished: Nov 18, 2023 08:02:24 pm

केंद्रीय शिक्षा विभाग के अंतर्गत राष्ट्रीय स्तर पर किए गए परफॉर्मिंग ग्रेडिंग इंडेक्स सर्वे के आंकड़े ने सूरत जिले के शिक्षा विशेषज्ञों को चौंका दिया है। इस सर्वे में सूरत जिले का स्कोर 444 से गिरकर 382 हुआ है।

GSEB : सूरत जिले में स्कूली शिक्षा के गिरते स्तर ने बढ़ाई चिंता
GSEB : सूरत जिले में स्कूली शिक्षा के गिरते स्तर ने बढ़ाई चिंता

- परफॉर्मिंग ग्रेडिंग इंडेक्स सर्वे :
वलसाड जिले का 429, नवसारी का 404, भरूच का 399 और नर्मदा जिले का 391 स्कोर दर्ज किया गया है। सूरत जिले के मुकाबले तापी का 378 और डांग का 377 स्कोर कम आया है। देश के विभिन्न जिलों का शिक्षा स्तर जानने के लिए केंद्र की ओर से हर साल परफॉर्मिंग ग्रेडिंग इंडेक्स सर्वे किया जाता है। केंद्रीय शिक्षा विभाग की वेबसाइट पर सभी जिलों के स्कोर के आंकड़े जारी किए जाते हैं। गुजरात के सभी 32 जिलों की स्कूलों का भी सर्वे होता है। इस रिपोर्ट के अनुसार शिक्षा सत्र 2021-22 में सूरत जिले का स्कोर कम आया है। जिसने स्कूल संचालकों को भी चिंता में डाल दिया है।

- 32 जिलों का समावेश :
गुजरात के प्रमुख जिलों का स्कोर: इस सर्वे में गुजरात के सभी 32 जिलों का समावेश है। प्रमुख जिलों के 2021-22 के स्कोर में जूनागढ़ का 425, वडोदरा का 418, मेहसाणा का 403, अहमदाबाद का 388, कच्छ का 387, भावनगर का 374, अमरेली का 373, पाटण का 367 और राजकोट का 341 स्कोर दर्ज किया गया है।
- 600 अंकों से मूल्यांकन :
सर्वे में कक्षा 3, 5, 8 व 10 के विद्यार्थियों और कक्षाओं का 600 अंकों में से मूल्यांकन होता है। विद्यार्थियों, शिक्षकों और स्कूल की उपलब्धि के 290 अंक गिने जाते हैं। कक्षाओं व स्कूलों में विद्यार्थियों को दी जाने वाली सुविधाएं 51, शिक्षा के 90, विद्यार्थियों की सुरक्षा के 35, डिजिटल लर्निंग के 50 और संचालन व उपस्थित के 84 अंकों में से मूल्यांकन होता है।
- वलसाड का सुधरा, सूरत व नवसारी का बिगड़ा :
सर्वे के अनुसार 420 से अधिक स्कोर करने वाले जिलों को अतिउत्तम श्रेणी में रखा जाता है। 360 से 420 स्कोर वालों को उत्तम श्रेणी में स्थान मिलता है। 2020-21 में सूरत और नवसारी जिले अतिउत्तम श्रेणी में थे, जो 2021-22 में उत्तम श्रेणी में आए हैं। जबकि वलसाड जिला उत्तम श्रेणी में से अतिउत्तम श्रेणी में आया है। साल 2018-19 में सूरत जिले का स्कोर 438, 2019-20 में 441 और 2020-21 में 444 था, जो 2021-22 में घटकर 382 आया है। लगातार तीन साल 400 से अधिक स्कोर पाने के बाद अचानक 382 स्कोर आने पर सूरत जिले के स्कूल संचालक चिंतित हो गए हैं।

ट्रेंडिंग वीडियो