केलिया डेम के निकटवर्ती गांवों में हाइअलर्ट


डेम में भरा 90 प्रतिशत पानी


90 percent water filled in the dam

By: Sunil Mishra

Published: 23 Aug 2020, 12:18 AM IST

वांसदा. पिछले कई दिनों से हो रही बरसात के कारण वांसदा तहसील का केलिया डेम करीब 90 प्रतिशत तक भर गया है। इससे किसानों में खुशी है, लेकिन दूसरी तरफ आसपास के 22 गांवों में प्रशासन ने अलर्ट जारी किया है। करीब एक सप्ताह से हो रही बरसात के कारण डेम में पानी की आवक लगातार बनी हुई है। शनिवार तक डेम की क्षमता का 90 प्रतिशत पानी जमा हो गया था। इसके कारण उसके आसपास निचले इलाके के 22 गांवों में हाइ अलर्ट किया गया है। इसमें वांसदा तहसील का केलिया और चिखली तहसील के मांडवखड़क, काकडवेल, वेलणपुर, गोंडथल, कनभाई, सियादा, गोलार, कलियारी, आमधरा, मोगरावाड़ी, पिरलगभाण, सोलंधरा, मलियाधरा, घेज, तेजलाव, बलवाड़ा के अलावा खेरगाम तहसील के वाड गांव अलर्ट में शामिल है। साथ ही गणदेवी तहसील के उंडास, खापरवाडा, गोयंदी, वागरेश समेत कई अन्य गांव के लोगों को नदी के पट विस्तार में न जाने की सूचना दी गई है। इस बारे में जूज डेम के नायब कार्यपालक इंजीनियर आरआर गामित ने बताया कि बरसात के जारी रहने पर आगामी 24 घंटे में डेम ओवरफ्लो हो जाएगा। इससे इन गांवों के लिए हाइअलर्ट जारी किया गया है।

https://www.patrika.com/surat-news/50-percent-water-arrival-in-juj-dam-6347921/


डांग जिले में बरसात का जोर कम
डांग जिले में शनिवार को सुबह छह बजे तक बीते 24 घंटे में 12.25 मिमी बरसात दर्ज की गई। बरसात का जोर कम होने से कई जगहों पर डूबे कोजवे पानी उतरने के बाद आवागमन के लिए खुल गए। इससे लोगों को कुछ राहत मिली। कई निचले इलाके से भी पानी उतरने से लोगों की परेशानी कुछ कम हुई। जिला फ्लड कंट्रोल के अनुसार अब तक आहवा तहसील में कुल मौसम की 1170 मिमी, वघई तहसील में 1433 मिमी, सुबीर तहसील में 1109 मिमी और सापुतारा नोटिफाइड विस्तार में अब तक 1133 मिमी बरसात हुई है।

ननकवाड़ा इलाके में पानी भरने से बढ़ी समस्या
वलसाड. बरसात के कारण शहर में कई विस्तारों में समस्या उत्पन्न हो गई है। शहर के ननकवाड़ा समेत कई निचले इलाकों में पानी भर गया है। ननकवाड़ा में कई घरों में भी पानी घुस जाने से लोगों के लिए संकट खड़ा हो गया है। जानकारी मिलने पर पंचायत सदस्यों ने पहुंचकर हालात का जायजा लिया और राहत कार्य शुरू करवाया। इसके अलावा टीवी रिले केन्द्र के पास भी पानी भर जाने से मार्ग बंद हो गया था। इसके कारण लोगों को घूमकर आना जाना पड़ा। हालांकि शनिवार को बरसात का जोर कम होने पर पानी उतरना शुरू हो गया है।

Sunil Mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned