ganpati visarjan in surat : 35,000 मूर्तियों का शांतिपूर्ण माहौल में विसर्जन

ganpati visarjan in surat-2021
- 10,000 सुरक्षा बल मुख्य मार्गो व 19 कृत्रिम तालाबों पर रहे तैनात
- 22 विसर्जन मार्गों पर टीआरबी व पुलिस ने संभाली व्यवस्था

..यूं चला विसर्जन का दौर :
सुबह 07:00-12:00 बजे तक - 6627 मूर्तियां
दोपहर 12:00-03:00 बजे तक - 11190 मूर्तियां
शाम 03:00-06:00 बजे तक -11306 मूर्तियां

By: Dinesh M Trivedi

Published: 20 Sep 2021, 10:16 AM IST

सूरत. अंतत चर्तुदर्शी पर रविवार को शांतिपूर्ण माहौल में भगवान गणेश की 35 हजार से अधिक मूर्तियों का 19 कृत्रिम तालाबों में विसर्जन सम्पन्न हुआ। छिटपुट घटनाओं को छोड़ दे तो शहर में कहीं से भी किसी अप्रिय घटना की सूचना नहीं है।
शहर पुलिस द्वारा सुरक्षा और व्यवस्था के कड़े इंतजाम किए गए थे। विभिन्न मुख्य मार्गो, चौराहों और कृत्रिम तालाबों पर 2 अतिरिक्त पुलिस आयुक्त,7 डीसीबी, 28 एससीपी, 90 पुलिस निरीक्षक, 250 उप निरीक्षक, एक कंपनी रैपिड एक्शन फोर्स की आठ रिजर्व पुलिस कंपनियां, 4200 पुलिस जवान, 1500 टीआरबी जवान, 3000 होमगार्ड तैनात किए थे। व्यवस्था संभालने के लिए शहर को अलग अलग हिस्सों में विभक्त कर दिया था।

वहीं कृत्रिम तालाबों पर लगाए गए सीसीटीवी और शहर में मार्गो पर कैमरों से कंट्रोल रूम के जरिए भी नजर रखी जा रही थी। वहीं ट्रैफिक पुलिसकर्मियों, होमगार्ड जवानों व टीआरबी जवानों ने विभिन्न मार्गो पर यातायात व्यवस्था संभाली। पुलिस ने विसर्जन यात्राओं के लिए कुत्रिम तालाबों के निकट 22 मार्गो पर रात से ही बैरिकेट लगा दिए थे।

भीड़ बढऩे पर किया रास्ता बंद :

सुबह भीड़ कम होने के कारण पुलिस ने रिंगरोड पर पुरानी सबजेल से स्थित कृत्रिम तालाब के पास फ्लाईओवर पुल के नीचे का रास्ता भी आम वाहनों के लिए खोल रखा था, लेकिन शाम को भीड़ बढऩे पर नीचे का रास्ता बंद कर दिया और वाहनों को पुल से गुजारा। इस तरह के व्यवस्थाओं में छोटे मोटे बदलाव अन्य कृत्रिम तालाबों और मुख्य मार्गो पर भी करने पड़े।

वाहन नहीं होने से आसानी :

इस बार चार फिट से कम उंचाई की मूर्तियां होने के कारण अधिकतर मंडल बिना वाहनों के पैदल, हाथ गाडिय़ों या डोलियों में श्रीजी की मूर्तियों को विसर्जन के लिए लेकर आए थे। जिसकी वजह रिंग रोड, राजमार्ग, अडाजण, डूमस रोड समेत अन्य मुख्य मार्गो पर पुलिस को यातायात व्यवस्था संभालने में अधिक परेशानी नहीं हुई।
-----------------

कृत्रिम तालाबों पर दोपहर बाद तेजी :

गणेश मंडलों से सुबह जल्दी विसर्जन प्रक्रिया खत्म करने की अपील के बावजूद विसर्जन सुबह माहौल ठंडा ही रहा। सुबह सात बजे से दोपहर बारह बजे तक माहौल ठंडा ही रहा। पांच घंटों के दौरान विभिन्न 19 कृत्रिम तालाबों पर करीब छह हजार मूर्तियां ही पहुंची, लेकिन दोपहर बारह बजे के बाद गणेश भक्त बड़ी संख्या में विसर्जन के लिए निकले। शाम तीन बजे तक करीब ग्यारह हजार मूर्तियां विसर्जित हुई। यह सिलसिला शाम छह बजे तक जारी रहा। छह बजे तक और ग्यारह हजार मूर्तियों का विसर्जन हुआ। शाम छह बजे के बाद भी देरी से पहुंच रही मूर्तियों का भी विधिवत विसर्जन किया जा रहा था।
--------------
..यूं चला विसर्जन का दौर :
सुबह 07:00-12:00 बजे तक - 6627 मूर्तियां
दोपहर 12:00-03:00 बजे तक - 11190 मूर्तियां
शाम 03:00-06:00 बजे तक -11306 मूर्तियां
----------------------------

फूलों से सजी बप्पा की डोली :

सूरत. अडाजण -हजीरा रोड पर आरटीओ के पास फूलों से सजी बप्पा की डोली देखने को मिली। एलपी सवाणी क्षेत्र की एक सोसायटी के युवक युवतियां नौकानुमा डोली में श्रीजी को लेकर आए। डोली के आगे नाचते गाते बप्पा के जयकारे लगाते विसर्जन के लिए ले जा रहे थे।
-----------------------------

Dinesh M Trivedi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned