दानह के 53 गांवों में कंठ तर करेगा मीठा पानी

दानह के 53 गांवों में कंठ तर करेगा मीठा पानी

Sunil Mishra | Publish: Feb, 09 2018 06:36:55 PM (IST) Surat, Gujarat, India


घरों तक पाइप लाइन बिछाने का कार्य जारी
साढ़े 6 करोड़ की लागत से राखोली फिल्टर प्लांट का निर्माण कार्य अंतिम दौर में


सिलवासा. संघ प्रदेश दादरा नगर हवेली के ग्रामवासियों को घर-घर फिल्टर पानी की सौगात मिलने वाली है। बहुउद्देशीय पेयजल प्लांट का निर्माण पूरा हो गया है। इस प्लांट से गांवों तक सप्लाई की पाइप डालने का कार्य तीव्र गति से चल रहा है।
रखोली के कराड़ गांव में दमणगंगा किनारे बहुउद्देशीय पेयजल प्लांट की 22 जनवरी 2017 को आधारशिला रखी थी। इससे11 ग्राम पंचायतों के 53 गांवों को फिल्टर पानी मिलेगा। करीब साढ़े 6 करोड़ की लागत से फिल्टर प्लांट का निर्माण अंतिम चरण में पहुंच गया है। परियोजना से दो चरणों में पानी के पाइप डाले जाएंगे। पेयजल अधिकारियों ने बताया कि दमण गंगा से पानी लेकर रखोली स्थित फिल्टर प्लांट में शुद्ध किया जाएगा। इस प्लांट से रांधा और किलवणी के गांवों में प्रेशर मोटर से पानी रांधा में ऊंचाई पर टंकी में भरा जाएगा। यहां से गांवों में पाइप लाइन बिछाई जाएगी। कराड़ के दूसरी ओर सुरंगी, आंबोली, खानवेल, खेरड़ी और रूछाना के लिए अलग पाइप से पानी की आपूर्ति होगी। संपूर्ण प्रोजेक्ट में दो वर्ष से अधिक का समय लग सकता है। परियोजना वर्ष 2041 की जनसंख्या को ध्यान में रखते हुए तैयार की गई है। ट्रीटमेंट प्लांट की 40 एमएलडी पानी की क्षमता होगी। प्रोजेक्ट का कार्य फेसाइल मुवेन प्राइवेट लिमिटेड कर रहा है।
उल्लेखनीय है कि दूधनी, कौंचा, मांदोनी, सिंदोनी में दो वर्ष पहले फिल्टर प्लांट से घर-घर पानी की आपूर्ति शुरू कर दी हैं। रखोली परियोजना से प्रदेश के अन्य सभी गांवों को फिल्टर पानी नसीब होगा। नई परियोजना से भूमिगत पाइप बिछाने का कार्य जल्दी पूरा करने के प्रयास चल रहे हैं।

बेरोजगारों को सस्ती दर पर ऋण दे रहा बैंक
सिलवासा. प्रदेश की लीड देना बैंक व्यापार के साथ बेरोजगार युवक-युवतियों को प्रशिक्षण देकर स्वरोजगार मुहैया कराने की दिशा में आगे बढ़ रहा है। खानवेल स्थित ग्रामीण प्रशिक्षण केन्द्र से करीब साढ़े तीन हजार युव? रोजगार ?? का प्रशिक्षण प्राप्त कर चुके हैं। इनमें 70 प्रतिशत युवाओं को बैंक ने सस्ते दर पर ऋण भी उपलब्ध कराया है। ग्रामीण क्षेत्रों में स्वरोजगार की ओर बैंक का प्रशिक्षण सिस्टम उपलब्धि का केन्द्र बन गया है। यह दावा खानवेल केन्द्र पर आयोजित सभा में देना बैंक समूह के नेशनल सेंटर फॉर एक्सलेंस के नेशनल डायरेक्टर केएन जनार्दन ने किया। सभा में बैंक के वरिष्ठ अधिकारी उत्तमभाई, स्थानीय बैंक मुख्य मैनेजर सीएम सैनी, एन शर्मा आदि अधिकारी भी उपस्थित थे।
बैंक के मुख्य मैनेजर सीएम सैनी ने कहा कि देना बैंक समूह ने खानवेन में ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थान तीन जुलाई 2017 को आरम्भ किया था। इस अल्प समय में 3461 बेरोजगारों को विभिन्न तरह के प्रशिक्षण देकर रोजगार उपलब्ध कराया है। इसमें 84 प्रतिशत महिलाएं हैं। ग्रामीण प्रशिक्षण संस्थान में टेलरिंग, हाथ कढ़ाई, पापड़ व मसाला मैन्युफैक्चरिंग, लकड़ी व बांस के उत्पाद, सब्जी व दुग्ध उद्योग आदि कई तरह के प्रशिक्षण दे रहा है। प्रदेश में आदिवासी 60 प्रतिशत से अधिक हैं, इससे खानवेल में स्वरोजगार प्रशिक्षण केन्द्र उपलब्धियों की ओर बढ़ रहा है। उल्लेखनीय है कि देना बैक समूह ने पहले सिलवासा में 31 मार्च 2012 को प्रशिक्षण केन्द्र शुरू किया था। इसमें ग्रामीणों की संख्या अधिक रहने से खानवेल में स्वयं की नई इमारत में प्रशिक्षण नियमित कर दिया है।

 

 

 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned