SURAT NEWS: अब बजेंगे बाजे-गाजे पर धुन सुनाई नहीं देगी

-कोरोना महामारी की वजह से वैवाहिक समेत अन्य मांगलिक कार्यक्रमों के आयोजनों पर लगे हैं कई तरह के प्रतिबंध

By: Dinesh Bhardwaj

Published: 16 Apr 2021, 08:23 PM IST

सूरत. लम्बे अंतराल के बाद रविवार को शुक्र तारे का उदय होगा और वैवाहिक सावों की शुरुआत हो जाएगी। पहला सावा 22 अप्रेल को है, लेकिन कोरोना महामारी की वजह से जारी गाइडलाइन के अनुरूप ही वैवाहिक समेत अन्य मांगलिक प्रसंग आयोजित हो पाएंगे। इस वजह से शादी समारोह तो खूब होंगे, लेकिन पाबंदियों के चलते धूमधाम नजर नहीं आएगी।
मकर संक्रांति 14 जनवरी को धनुर्मलमास की समाप्ति के बाद 19 जनवरी से 11 फरवरी तक की अवधि के लिए गुरु तारा अस्त अवस्था में चला गया था और इस वजह से वैवाहिक सावों समेत अन्य शुभ प्रसंगों के आयोजन नहीं हो पाए थे। गुरु तारे के 12 फरवरी को उदय अवस्था में आने के दस दिन बाद 21 फरवरी को शुक्र तारे का अस्त हो गया और अब शुक्र तारे का उदय रविवार को होगा। ज्योतिष मत में विवाह जैसे आयोजन में गुरु व शुक्र तारे की बड़ी अहम भूमिका रहती है और इनकी अस्त अवस्था में विवाह नहीं किए जाते, हालांकि इस अवधि में आए अबूझ सावों पर अवश्य विवाह, मांगलिक कार्यक्रम आदि के आयोजन किए गए थे। इस तरह से गत वर्ष धनुर्मलमास की शुरुआत से लगी वैवाहिक सावों पर पाबंदी करीब चार माह बाद जाकर हटेगी, लेकिन कोरोना महामारी की वजह से शादी समारोह में प्रशासनिक पाबंदियों का असर भी इस बार खूब दिखाई देगा। रविवार को शुक्र तारे का उदय होते ही वैवाहिक सावों समेत अन्य शुभ प्रसंगों का लम्बा दौर चलेगा और यह अप्रेल से जुलाई तक जारी रहेगा। इस चार माह की अवधि के दौरान करीब चार दर्जन वैवाहिक सावे रहेंगे।

-यह लगी है प्रशासनिक पाबंदियां

गत दिनों ही शहर पुलिस आयुक्त ने संशोधित निषेधाज्ञा जारी की थी और उसमें बताया था कि 30 अप्रेल तक सभी तरह के धार्मिक त्योहार-उत्सव के आयोजन घरों में ही किए जाएंगे। शादी समारोह में 50 से ज्यादा लोग एकत्र नहीं हो सकेंगे और रात्रि कफ्र्यू की वजह से विवाह आदि के आयोजन भी रात्रि में नहीं किए जा सकेंगे। संशोधित निषेधाज्ञा की वजह से अब अधिकांश विवाह व मांगलिक प्रसंग शाम तक ही बगैर धूमधाम के आयोजित हो सकेंगे।

-सावों की लम्बी सूची

इस संबंध में ज्योतिषी पं. शिवरतन दाधीच ने बताया कि 22 अप्रेल से 20 जुलाई तक वैवाहिक सावों की लम्बी सूची है। इसमें अप्रेल में 22, 23, 24, 26, 28 व 29 तारीख, मई में 1, 3, 4, 5, 12, 13, 14, 15, 19, 20, 21, 22, 24, 25, 27, 28, 29, 30 व 31 तारीख को शादी के मुहूर्त है। इसके बाद जून में 1, 3, 4, 9, 15, 16, 17, 18, 21, 22, 23, 25, 26 व 27 तारीख तथा जुलाई में 3, 4, 6, 12, 13, 14, 15, 16, 17, 18, व 19 तारीख के सावे हैं। इसके बाद 20 जुलाई से देवशयन को चले जाएंगे और शुभ प्रसंगों पर चार माह की रोक लग जाएगी।

Dinesh Bhardwaj Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned