SURAT NEWS;कपड़ा उद्यमियों को लग रहा डर, कहीं छलावा न बन जाए बजट

कपड़ा उद्यमियों को बजट में राहत की उम्मीद

सूरत
मंदी से परेशान कपड़ा और हीरा उद्यमियों को बजट से बड़ी उम्मीदें हैं। एक ओर जहां स्थानिक व्यापार करने वाले व्यापारियों को आयकर की सीमा बढने की उम्मीद और जीएसटी में सरलीकरण की उम्मीद है। वहीं कपड़ा बनाने वाले वीवर्स को टफ की सब्सिडी मिलने की उम्मीदें है।
कपड़ा उद्योग की नजरें रहेगी इन बातों पर
(1) उद्यमियों की ओर से दो हजार करोड़ रुपए की सब्सिडी के लिए अर्जियां की गई है इसके लिए टैक्सटाइल कमिश्नर कार्यालय को फंड देने दिया जाए।
(2) ग्रुप वर्क शेड स्कीम के लिए फंड नहीं होने से उद्यमियों की फाइलें नहीं पास हो रही। इसलिए फंड दिया जाए।
(3) ए-टफ स्कीम के लिए उद्यमियों की अर्जियां दो साल से पेन्डिंग हैं। उन्हें जल्दी से मंजूर किया जाए।
(4) आईटीसी-04 रिटर्न रद्द किया जाए।
(5) कपड़ा निर्यातकों के लिए डीईपीबी जैसी योजना शुरू की जाए।
(6) सभी यार्न पर एक समान ड्यूटी लगाई जाए।
(7) गारमेन्ट उद्योग को बढ़ावा मिले ऐसी पॉलिसी घोषित की जाए।
(8) आयकर व सर्विस टैक्स देने वाले व्यापारी को पेंशन और दुर्घटना वीमा।
(9) घरेलू कपड़ा उद्योग को बढ़ावा देने के लिए विदेश से आनेवाले फैब्रिक्स को कम करने के लिए आवश्यक कदम उठाया जाए।

मिलेगी राहत
केन्द्र सरकार ने टफ योजना सहित अनेक योजनाएं शुरू की हैं, लेकिन फंड के अभाव में उद्यमियों की फाइलें नहीं बढ़ रही। यदि फंड मिले तो उद्यमियों को राहत मिलेगी। हमें बजट से यही उम्मीद है।

मयूर गोलवाला, उद्यमी

Show More
Pradeep Mishra
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned