घर-घर में सजी झांकी, मनी जन्माष्टमी

शहरभर में चढ़ा कृष्णभक्ति का रंग, मध्यरात्रि सोसायटी-अपार्टमेंट में गूंजी आरती और थाली

By: Dinesh Bhardwaj

Published: 13 Aug 2020, 08:33 PM IST

सूरत. श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का पर्व बुधवार को दिनभर मनाया गया। मध्यरात्रि 12 बजते ही श्रद्धालुओं ने घर-घर में शृंगारित झांकियों के पालने में भगवान श्रीकृष्ण के बाल-गोपाल स्वरूप को झुलाकर आरती की गई और खुशी मनाते हुए थाली-शंख बजाए।
भाद्रपद कृष्ण पक्ष अष्टमी तिथि व रोहिणी नक्षत्र के बीच पूरे एक दिन का अंतर रहने से श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का पर्व मंगलवार के बाद बुधवार को भी घर-घर में धूमधाम से मनाया गया। कोविड-19 महामारी की वजह से श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर्व का रंग भी इस बार शहरभर में वैसा देखने को नहीं मिला जैसे गत वर्षों में दिखाई पड़ता था। कहीं भी दही हांडी, पंडाल में प्रतिमा स्थापना, भवनों में झांकी आदि के आयोजन इस बार नहीं किए गए। भाद्रपद कृष्ण अष्टमी के मौके पर श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का पर्व बुधवार मध्यरात्रि बाद घरों में भगवान श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव मनाने की तैयारियां श्रद्धालुओं ने दोपहर तक पूरी कर ली और उसके बाद शाम को घरों में भजन, आरती गूंजने लगे। मध्यरात्रि 12 बजते ही सोसायटी-अपार्टमेंट में नंद घर आनंद भयो, जय कन्हैयालाल की...गूंजने लगा और कन्हैया के आगमन पर श्रद्धालुओं ने आरती की और बधाइयां बांटी।

श्रीश्याम मंदिर, सूरतधाम में ऑनलाइन दर्शन


श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर्व के अवसर पर वेसू के श्रीश्याम मंदिर, सूरतधाम में बाबा श्याम के ऑनलाइन दर्शन, आरती की व्यवस्था श्रद्धालुओं के लिए श्रीश्याम सेवा ट्रस्ट की ओर से की गई। हालांकि मंदिर में रात्रि सवा नौ बजे तक बारिश के बीच श्रद्धालुओं का सोशल डिस्टेंस के बीच आना जारी रहा और उसके बाद मंदिर के द्वार बंद कर ऑनलाइन भजन-कीर्तन, दर्शन, आरती आदि की व्यवस्था की गई।


घरों में झुलाया पालना


कोरोना महामारी की वजह से बुधवार को जन्माष्टमी पर्व के अधिकांश आयोजन घरों में ही सम्पन्न किए गए। ज्यादातर मंदिर बंद होने से श्रद्धालुओं ने घरों में रहकर ही भगवान की झांकी सजाई और शृंगारित झूले पर बालगोपाल की प्रतिमा को बिठाया। उसके बाद मध्यरात्रि आरती कर प्रसाद चढ़ाया गया और भगवान को झूला झुलाया गया। ऐसे आयोजन बुधवार मध्यरात्रि घर-घर में आयोजित किए गए।

मंदिरों में भी सजी झांकी


कोरोना महामारी की वजह से श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर्व पर बुधवार को शहर के अधिकांश मंदिर दर्शनार्थियों के लिए बंद रहे, हालांकि वहां भगवान श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव मनाने की पूरी तैयारियां की गई थी। इसमें जहांगीरपुरा के इस्कॉन मंदिर में भगवान की झांकी सजाई गई। इसी तरह के भरथाणा के भरतेश्वर महादेव मंदिर समेत शहर के अन्य कई मंदिरों में झांकियां सजाई गई।

Dinesh Bhardwaj Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned