मामला सडक़ दुर्घटना का, हत्या बताकर हंगामा

मामला सडक़ दुर्घटना का, हत्या बताकर हंगामा

Dinesh M.Trivedi | Publish: Oct, 13 2018 10:14:56 PM (IST) Surat, Gujarat, India

परिजनों ने घटना को उत्तर भारतीयों पर हो रहे हमले से जोड़ दिया

पुलिस का दावा: तेज रफ्तार बाइक पेड़ से टकराने के बाद बिहार निवासी अमरजीत की हुई थी मौत

सूरत. पांडेसरा क्षेत्र में सडक़ हादसे में हुई युवक की मौत को परिजनों ने हत्या बताते हुए हंगामा किया तथा पूरे मामले को उत्तर भारतीय बनाम गुजराती का रूप दे दिया। परिजनों ने शव लेने से भी इनकार कर दिया था। बाद में पुलिस की समझाइश से मामला सुलझा और परिजन अस्पताल से शव लेकर रवाना हो गए।


न्यू सिविल अस्पताल और खटोदरा पुलिस के अनुसार पांडेसरा सीतानगर निवासी अमरजीत राजदेव सिंह (३२) मूल रूप से बिहार के गया जिले का निवासी था। अमरजीत सूरत में लेबर कॉन्ट्रेक्टर का कार्य करता था। वह शुक्रवार रात को साढ़े दस बजे मोटरसाइकिल पर घर जा रहा था। इसी दौरान तेज रफ्तार बाइक पेड़ से टकरा गई और गंभीर रूप से घायल होने से उसकी मौत हो गई।

खटोदरा पुलिस शव को पोस्टमार्टम के लिए न्यू सिविल अस्पताल ले आई। सूचना मिलने पर परिजन भी अस्पताल पहुंच गए। उन्होंने बताया कि अमरजीत वर्षों पहले गांव से सूरत रोजी-रोटी की तलाश में आया था। यहां कार्य करते हुए उसने खुद का घर भी बना लिया था। परिजनों ने हत्या की आशंका जताते हुए पूरे मामले को साबरकांठा जिले में बच्ची से बलात्कार की घटना के बाद उत्तर भारतीयों पर हो रहे हमले से जोड़ दिया।

पुलिस को जब इसकी जानकारी मिली तो हडक़म्प मच गया। आला पुलिस अधिकारियों ने खटोदरा थाना निरीक्षक से मामले की जानकारी ली। पुलिस ने बताया कि पूरा मामला सडक़ दुर्घटना का है। पोस्टमार्टम रूम के बाहर परिजनों ने जांच पूरी नहीं होने तक शव लेने से मना कर दिया। बाद में पुलिस ने उन्हें समझाया और बेवजह घटना को दूसरा रूप देने से रोका। इसके बाद परिजन मान गए और शव को अंतिम संस्कार के लिए गांव लेकर रवाना हो गए।

मॉब लिंङ्क्षचग की फैली अफवाह


अमरजीत की मौत की खबर देशभर में जंगल की आग की तरह फैल गई। घटना को गुजरात में प्रवासी उत्तरभारतीयों पर हो रहे हमलों से जोड़ दिया गया। राष्ट्रीय मीडिया की तमाम वेबसाइट पर मॉब लिंचिंग की खबरें वायरल हो गई। खबरें चली कि सैकड़ों लोगों की भीड़ ने अमरजीत को निशाना बनाया और उसकी हत्या कर दी।

हालांकि पुलिस ने इन खबरों को खारिज करते हुए मामला सडक़ हादसे का बताया है। इस अफवाह के चलते शहर पुलिस आयुक्त सतीष शर्मा समेत विभिन्न आलाधिकारियों ने घटनास्थल का मुआयना किया और हालात को जाना। शर्मा ने बताया कि अमरजीत की मौत सडक़ हादसे में हुई है, हत्या या मॉब लिंचिंग की घटना नहीं है।

खजूर के पेड़ से टकराया, फिर गिरा बाइक से


मामले की जांच कर रहे ट्रैफिक पुलिस निरीक्षक एम.बी.खिलेरी ने बताया कि शुरू में मौके पर मौजद स्थानीय व्यक्ति की शिकायत पर अज्ञात वाहन से टक्कर की आशंका के चलते प्राथमिकी दर्ज की गई थी। बाद में फोरेन्सिक टीम के साथ मौके पर बारीकी से जांच की गई। जांच में सडक़ पर मिले टायरों के निशान आदि से पता चला कि मोटरसाइकिल तेज रफ्तार में थी।

वह खजूर के पेड़ से टकराई और उससे कुछ आगे दूसरे पेड़ के पास जा गिरी। वह एक साइड से गिरा। उसके शरीर पर एक साइड ही छिलने के निशान मिले हैं। सिर में चोट लगने की वजह से उसकी मौत हो गई। अन्य किसी वाहन से टक्कर के भी कोई निशान नहीं मिले हैं। इस बारे में परिजनों को बताया गया है। घटना के वक्त वह नशे में था या नही, इसके लिए सैम्पल लिए गए हैं।

Ad Block is Banned