WORLD WOMENS DAY: मैदान में दिखाया महिलाओं ने क्रिकेट का हूनर

टफ पार्क में 14 वर्ष की किशोरी से लेकर 80 वर्ष की बुजुर्ग महिला ने लगाए चौके-छक्के, गुजरात प्रदेश अग्रवाल सम्मेलन महिला इकाई व श्रीश्याम प्रचार मंडल महिला इकाई का विशेष आयोजन

By: Dinesh Bhardwaj

Published: 08 Mar 2021, 10:01 PM IST

सूरत. शहर में पहली बार ऐसा क्रिकेट टूर्नामेंट का आयोजन सोमवार को सम्पन्न हुआ जिसमें एक-दो नहीं बल्कि बीस टीमों की सवा तीन से ज्यादा महिला खिलाड़ी क्रिकेट के मैदान में मौजूद रही और बारी-बारी से मैच जीतने के लिए क्रिकेट के हूनर का प्रदर्शन करती रही। विश्व महिला दिवस के उपलक्ष में गुजरात प्रदेश अग्रवाल सम्मेलन महिला इकाई व श्रीश्याम प्रचार मंडल महिला इकाई के संयुक्त उपक्रम में आयोजित महिला क्रिकेट टूर्नामेंट में राजस्थान पत्रिका की सहयोगी भूमिका में रही। टूर्नामेंट का आयोजन वेसू में केनाल रोड स्थित एलपी सवाणी स्कूल के टफ पार्क में किया गया।
इस संबंध में अखिल भारतीय अग्रवाल सम्मेलन महिला इकाई की राष्ट्रीय महामंत्री विनीता खेतावत ने बताया कि टूर्नामेंट में महिलाओं की 20 टीमों ने भाग लिया और इसमें सवा तीन सौ से ज्यादा महिला क्रिकेट प्रतियोगी शामिल रही। इस अवसर पर पूर्व महापौर अस्मिता शिरोया, पूर्व उप महापौर डॉ. सुषमा अग्रवाल, नवनिर्वाचित पार्षद रश्मि साबू, सुमन गाडिया आदि विशेष रूप से मौजूद रही। टूर्नामेंट में सोसायटी व अपार्टमेंट की टीमों के अलावा महिलाओं के धार्मिक-सामाजिक संगठन श्रीश्याम अखंड ज्योत सेवा समिति महिला इकाई, अग्रवाल समाज ट्रस्ट महिला इकाई, अग्रवाल समाज परवत पाटिया महिला इकाई, माहेश्वरी महिला मंडल, अग्रवाल सखी मंडल, मेजबान श्रीश्याम प्रचार मंडल महिला इकाई आदि की क्रिकेट टीमें विशेष रूप से भाग ली। श्रीश्याम प्रचार मंडल के संस्थापक पूरणमल अग्रवाल व महिला इकाई अध्यक्ष संतोष गाडिया ने बताया कि टूर्नामेंट के दौरान स्वास्थ्य जांच शिविर, रक्तदान शिविर के अलावा नेत्रदान व अंगदान शिविर के भी आयोजन किए गए। टूर्नामेंट के मैच टफ पार्क के दो कोर्ट में दोपहर एक बजे से देर शाम तक खेले गए और इसमें सभी खिलाडिय़ों ने जोश के साथ भाग लिया।

सभी को मिला पुरस्कार

गुजरात प्रदेश अग्रवाल सम्मेलन महिला इकाई व श्रीश्याम प्रचार मंडल महिला इकाई के संयुक्त उपक्रम में आयोजित महिला क्रिकेट टूर्नामेंट का खास आकर्षण सोमवार को यह रहा कि यहां हार-जीत के कोई मायने नहीं रहे। आयोजकों ने मैच खेलने वाली दोनों टीम को ट्रॉफी व सभी खिलाडिय़ों को मेडल देकर उनका खेल के प्रति प्रोत्साहन बढ़ाया। आयोजकों की खेल व महिला वर्ग के सम्मान के प्रति ऐसी भावना को सभी ने सराहा। टूर्नामेंट के एक अन्य आकर्षण में 14 वर्ष की किशोरियों से 80 वर्ष की वरिष्ठ महिला प्रतियोगी भी रहे, जिन्होंने कोर्ट में बैट और गेंद से अपना हूनर दिखाया।

WORLD WOMENS DAY: मैदान में दिखाया महिलाओं ने क्रिकेट का हूनर
Dinesh Bhardwaj Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned