मां दुर्गा के इस मंदिर में पूजा करने पर कभी मैच नहीं हारते धोनी

धोनी किसी भी मैच सीरीज से पहले भारतीय क्रिकेट टीम की जीत सुनिश्चित करने के लिए रांची के सोलहभुजा दुर्गा मंदिर में पूजा-अर्चना करते हैं

By: सुनील शर्मा

Published: 15 Oct 2015, 02:03 PM IST

भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच हुए वनडे मैच में जीत का पूरा श्रेय कप्तान कप्तान एम एस धोनी को दिया गया। मैच जीतने के बाद धोनी की तारीफों के पुल बांधे जा रहे हैं परन्तु बहुत कम लोगों को पता होगा कि धोनी अपने हर महत्वपूर्ण मैच सीरिज से पहले रांची के सोलहभुजा दुर्गा मंदिर में दर्शन के लिए जाते हैं। झारखंड की राजधानी रांची के पास तमाड़ में स्थित इस मंदिर को देवड़ी मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। रांची से लगभग 60 किलोमीटर दूर रांची-टाटा हाइवे पर बना यह मंदिर धोनी की श्रद्धा के चलते देश-विदेश में प्रसिद्ध हो चुका है।


भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान एम एस धोनी पत्नी साक्षी के साथ मंदिर में पूजा-अर्चना करते हुए

मां सोलहभुजा दुर्गा मंदिर में अटूट श्रद्धा रखते हैं धोनी

कहा जाता है कि मंदिर में स्थित मां सोलहभुजा दुर्गा ने धोनी तथा उनके परिवार की हर कदम पर सहायता की है। टीम से फुर्सत मिलते ही धोनी हमेशा पत्नी साक्षी और परिवार के सदस्यों के साथ मंदिर आते रहते हैं। ऐसा माना जाता है कि धोनी किसी सीरीज के शुरू होने से पहले यहां आकर पूजा-अर्चना करते हैं। जीवन का हर दौर में चाहे वो अच्छा हो या बुरा, धोनी कभी मां सोलहभुजी दुर्गा को नहीं भूले।



हरभजन सिंह, शिखर धवन, लालू यादव भी आ चुके हैं मंदिर में मन्नत मांगने

धोनी की मान्यता है कि इस मंदिर में पूजा-अर्चना करने से ही उनके सारे कार्य सिद्ध होते हैं। वे अपने हर मैच की जीत का श्रेय भी मां को ही देते हैं। धोनी साक्षी के साथ शादी करने के बाद आशीर्वाद लेने इस मंदिर में आए थे। तभी मंदिर पहली बार मीडिया में आया था। यही नहीं, उनके साथ ही भारतीय क्रिकेट टीम के कई बड़े खिलाड़ी यथा हरभजन सिंह, शिखर धवन और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव भी यहां आकर मां को अपने श्रद्धा सुमन अर्पित कर चुके हैं।

"अब आप पा सकते हैं अपनी सिटी की हर खबर ईमेल पर भी - यहाँ क्लिक करें"
सुनील शर्मा Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned