विंबलडन 2019 के नियमों में किये गए बदलाव, बीते 20 चैम्पियनशिप मैचों को देखकर लिया गया फैसला

विंबलडन 2019 के नियमों में किये गए बदलाव, बीते 20 चैम्पियनशिप मैचों को देखकर लिया गया फैसला

Prabhanshu Ranjan | Publish: Oct, 19 2018 08:49:35 PM (IST) टेनिस

टीम या खिलाड़ी दो अंकों के अंतर को बनाए रखते हुए पहले सात अंकों तक पहुंचेगा वो विजेता होगा, लेकिन ऐसा नहीं हो पाता है तो मैच 12-12 के तय टाई ब्रेक पर रोक दिया जाएगा इसके बाद जो खिलाड़ी एडवांटेज यानि एक अंक की बढ़त ले लेगा वह खिलाड़ी विजेता होगा।

नई दिल्ली । साल के तीसरे ग्रैंड स्लैम टूर्नामेंट विंबलडन में 2019 से मैच के फाइनल सेट में 12-12 के टाई ब्रेक होंगे। ऑल इंग्लैंड लॉन टेनिस क्लब (एईएलटीसी) ने शुक्रवार को इस बात की जानकारी दी। यह फैसला इस साल दक्षिण अफ्रीका के केविन एंडरसन और अमेरिका के जॉन इश्नेर के बीच तीन घंटे से ज्यादा समय तक चले सेमीफाइनल मैच को ध्यान में रखते हुए लिया गया है।

नियमों में किये गए बदलाव
बीबीसी ने एईएलटीसी के हवाले से लिखा है, "समय आ गया है कि निर्णायक सेट में एक तय अंक के साथ टाई ब्रेक प्रणाली का उपयोग किया जाए।"जो टीम या खिलाड़ी दो अंकों के अंतर को बनाए रखते हुए पहले सात अंकों तक पहुंचेगा वो विजेता होगा, लेकिन ऐसा नहीं हो पाता है तो मैच 12-12 के तय टाई ब्रेक पर रोक दिया जाएगा इसके बाद जो खिलाड़ी एडवांटेज यानि एक अंक की बढ़त ले लेगा वह खिलाड़ी विजेता होगा।

20 चैम्पियनशिप मैचों को देखकर लिया गया फैसला
एईएलटीसी के चेयरमैन फिलिप ब्रूक ने कहा, "हम सभी जानते हैं कि फाइनल सेट काफी देर तक चले ऐसा बहुत कम होता है। हम मानते हैं कि 12-12 का टाई ब्रेक एक संतुलन प्रदान करेगा और दोनों खिलाड़ियों को मौका देगा कि जो एडवांटेज ले सकेगा वो मैच का विजेता होगा। इससे मैच एक निश्चित समय में खत्म हो जाएगा।"संघ ने कहा कि उसने यह फैसला बीते 20 चैम्पियनशिप मैचों को देखकर लिया है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned