शिक्षक संजय जैन का राज्यपाल और शिक्षा मंत्री ने किया सम्मान

शिक्षक संजय जैन का राज्यपाल और शिक्षा मंत्री ने किया सम्मान

Akhilesh Lodhi | Publish: Sep, 06 2018 11:32:52 AM (IST) Tikamgarh, Madhya Pradesh, India

डूडा के शासकीय कन्या प्राथमिक शाला विद्यालय में पदस्थ शिक्षक संजय कुमार जैन का शिक्षक दिवस पर राज्यपाल के साथ शिक्षा मंत्री और आयुक्त द्वारा सम्मान किया गया।

टीकमगढ़.डूडा के शासकीय कन्या प्राथमिक शाला विद्यालय में पदस्थ शिक्षक संजय कुमार जैन का शिक्षक दिवस पर राज्यपाल के साथ शिक्षा मंत्री और आयुक्त द्वारा सम्मान किया गया। उनके द्वारा प्रशासनिक अकेडमी भोपाल में शॉल श्रीफल से सम्मान कर 25 हजार रुपए का चैक दिया गया है।
जानकारी के अनुसार शासकीय कन्या प्राथमिक विद्यालय में पदस्थ शिक्षक संजय कुमार जैन का बुधवार को शिक्षक दिवस पर भोपाल के प्रशासनिक अकेडमी में प्रदेश की महामहिम राज्यपाल अनंदी बेन पटेल,शिक्षा मंत्री विजय शाह, स्कूल शिक्षा राज्यमंत्री दीपक जोशी, मंत्री लालसिंय आर्य,राज्य शिक्षा केंद्र की आयुक्त दीप्ति गौड़ मुखर्जी, जयश्री क्रियावत और आई सिंथियर द्वारा शॉल श्रीफल से सम्मान और चैक दिया गया। कार्यक्रम में कहा कि संजय कुमार द्वारा बालिका शिक्षा में परीक्षा परिणाम सौ प्रतिशत, मिल बांचे और प्रतिभा पर्व कार्यक्रमों का साकारात्मक प्रदर्शन किया गया। उनके द्वारा स्वच्छता अभियान में छात्रों सहित अभिभावकों को जागरूक करने का कार्य किया गया। डिजीटल इंडिया में शिक्षा का प्रदान और नामांकन का सौ प्रतिशत कार्य करने का सकारात्मक कार्य किया गया। पूर्व में संजय कुमार जैन को 2011 की जनगणना में राष्ट्रपति रजत पदक और सम्मान पत्र के साथ पुरस्कृत किया गया। इसके साथ ही तत्कालीन कलेक्टर प्रियंका दास द्वारा शिक्षक दिवस पर सम्मान किया गया था।

 


शिक्षक दिवस का हुआ आयोजन,समाजसेवियों ने शिक्षकों का किया सम्मान
टीकमगढ़.सिविल लाइन रोड़ के पास एक निजी गार्डन में शिक्षक दिवस पर शिक्षकों का सम्मान किया गया। कार्यक्रम के मुख्यअतिथि डॉ. एके सरावगी,विशिष्ट अतिथि पूर्व विधायक अजय सिंह यादव, पॉली टेक्निक महाविद्यालय प्राचार्य एक के अग्रवाल,नवोदय विद्यालय प्राचार्य मनोज कुमार सक्सेना,डॉ.योगरंजन, महेश पटेरिया,क ार्यक्रम के संरक्षक विवेक चतुर्वेदी और अध्यक्षता केंद्रीय विद्यालय प्राचार्य कदम सिंह द्वारा की गई। मंच का संचालन समाजसेवी महेंद्र द्विवेदी द्वारा किया गया। शिक्षक दिवस समारोह में शासकीय विद्यालय और अशासकीय विद्यालय के शिक्षकों का सम्मान किया गया। कार्यक्रम में समाजसेवियों ने कहा कि शिक्षक छात्रों का निर्माण करता है। इसके साथ ही उनको अच्छाई और बुराई का पाठ पढाता है। गुरु, शिष्य भारत की संस्कृति का एक अहम और पवित्र हिस्सा है। जीवन में माता-पिता का स्थान कभी कोई नहीं ले सकता। क्योंकि वे ही हमें इस रंगीन खूबसूरत दुनिया में लाते हैं। उनका कहना था कि जीवन के सबसे पहले गुरु हमारे माता-पिता होते हैं। भारत में प्राचीन समय से ही गुरु और शिक्षक परंपरा चली आ रही है। लेकिन जीने का असली सलीका हमें शिक्षक ही सिखाते हैं। सही मार्ग पर चलने के लिए प्रेरित करते हैं।

 

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned