अतिथि विद्वान के भरोसे इस वर्ष भी पढ़ेगें महाविद्यालय में छात्र

अतिथि विद्वान के भरोसे इस वर्ष भी पढ़ेगें महाविद्यालय में छात्र

Akhilesh Lodhi | Publish: Jun, 15 2019 08:00:00 AM (IST) Tikamgarh, Tikamgarh, Madhya Pradesh, India

.१० जून से छात्रों ने कॉलेज में प्रवेश लेना शुरू कर दिया है। प्रथम चरण में बीए, बायोलॉजी, गणित और वाणिज्य विषय में ३२१ छात्रों ने प्रवेश लिया है।

टीकमगढ़.१० जून से छात्रों ने कॉलेज में प्रवेश लेना शुरू कर दिया है। प्रथम चरण में बीए, बायोलॉजी, गणित और वाणिज्य विषय में ३२१ छात्रों ने प्रवेश लिया है। लेकिन इस वर्ष भी छात्रों को रेगूलर प्राध्यापको की जगह अतिथि विद्वानों से ही शिक्षा लेनी पड़ेगी। कॉलेज में अधिकत्तर पद खाली पड़े हुए है। हालाकिं खाली पदों को शासन द्वारा जल्द भरने की बात प्राचार्य द्वारा कही जा रही है।
कॉलेज में १० जून से १७ जून तक प्रथम चरण में कक्षा १२वीं के छात्रों को प्रवेश फस्टीयर में दिया जा रहा है। जहां महाविद्यालय द्वारा छात्रों की प्रवेश प्रक्रिया के लिए तैयारी कर ली है। छात्रों को प्रवेश तीन चरणों में दिया जाएगा। इसके साथ ही उनकी शिक्षा पर जोर देने के लिए महाविद्यालय प्रबंधन ने रेगूलर प्राध्यापको और अतिथि विद्वानों को जिम्मेदारी सौंप दी है। ७० पदों में से १३ पदों पर ही प्राध्यापक पदस्थ है। जो बीए, बायोलॉजी, गणित और वाणिज्य बिषय के छात्रों को शिक्षा देगें। छात्रों की शिक्षा में कमी न हो उसके लिए ३६ अतिथि विद्वानों को नियुक्त किया गया है। जिनको छात्रों को पढ़ाने की जिम्मेदारी दी जाएगी।
स्नातक की कक्षाओं में नई उम्मीद के साथ छात्रों ने लिया प्रवेश
कक्षा १२वीं के बाद छात्र नई उम्मीदों के साथ प्रवेश लेने के लिए आते है। किसी का डॉक्टर बनने का सपना होता है तो किसी का वैज्ञानिक तो किसी का खिलाड़ी तो किसी को उच्च शिक्षा अधिकारी के पदों पर जाने का सपना होता है। जिसके लिए छात्र कॉलेज में छात्र प्रवेश लेता है। लेकिन यहां पर वर्षो से लेब टेक्निशियन और स्पोर्ट कर्मचारियों के पद खाली पड़े हुए है।


१० जून से १४ जून तक के प्रवेश छात्र
कॉलेज के लिए प्रथम चरण १० से १७ जून तक शुरू कर दिया है। १४ जून तक बीए में २००, बायोलॉजी में ४५, गणित में ३८ और वाणिज्य में ३८ छात्र प्रवेश ले पाए है। हालाकिं प्रवेश के प्रक्रिया के लिए प्रबंधन द्वारा रेगूलर और अतिथि विद्वानों को लगाया गया है।
वर्षो से स्पोर्ट और लेब का छात्रों को नहीं मिल पाया लाभ
महाविद्यालय में खेल और लेब में परीक्षण का ज्ञान नहीं मिल पाया है। जिसको लेकर कोई भी छात्र न तो खेल में आगे आ पाए है और न ही लेब टेक्निशियन के मामले में ज्ञान ले पाया है। कॉलेज में बनाए लेब और स्पोर्ट की सामग्री पर धूल के सिवाएं कुछ भी दिखाई नहीं दिया।
कॉलेज में प्राध्यापको की यह है स्थिति
महाविद्यालय में बीए, गणित, बायोलॉजी और वाणिज्य की कक्षाओं में पढने वाले छात्रों को पढाने के लिए ७० में से १३ पदो पर प्राचार्य सहित प्राध्यापक पदस्थ है। जिसमें ५७ पद खाली पड़े हुए है। खाली पदो पर ३६ अतिथि विद्वानों को रखा गया है। जो छात्रों को शिक्षा देने के लिए कम पड़ रहे है।
यह है खाली पद
महाविद्यालय में वर्षो से प्राध्यापको के खाली पद पड़े हुए है। जिसमें हेड क्लिक, लेखापाल, स्पोर्ट प्राध्यापक, ग्रंथपाल, लाइब्रेरी और लेब टेक्निशियन के साथ ही सभी विषयों में प्राध्यापको की कमी बनी हुई है। जिसके कारण छात्रों को अल्प शिक्षा का ही ज्ञान मिल पाता है।
फैक्ट फाइल
प्रथम चरण के छात्र
विषय छात्र रेगूलर प्राध्यापक अतिथि विद्वान
बीए २०० ०२ १३
बायोलॉजी ४५ ०१ ०९
गणित ३८ ०१ ०९
वाणिज्य ३८ ०१ ०५
इनका कहना
कॉलेज में सभी छात्रों को प्रवेश दिया जाएगा। महाविद्यालय में प्राध्यापको के पद खाली पड़े हुए है। उन्हें शासन द्वारा जल्द ही भरा जाएगा। प्रवेश के साथ छात्रों की पढाई को पूरा करने के लिए कॉलेज में व्यवस्थाएं बना दी गई है।
डॉ. एमके नायक प्राचार्य महाविद्यालय टीकमगढ़।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned