डेढ़ वर्ष बाद भी मिनौरा ग्राम पंचायत की शुरू नहीं हो पाई नलजल योजना

डेढ़ वर्ष बाद भी मिनौरा ग्राम पंचायत की शुरू नहीं हो पाई नलजल योजना

Akhilesh Lodhi | Publish: Apr, 21 2019 08:00:00 AM (IST) Tikamgarh, Tikamgarh, Madhya Pradesh, India

ग्राम पंचायत मिनौरा में डेढ़ वर्ष से अधिक समय से बंद पड़ी नलजल योजना के कारण लोगों को पानी के लिए इधर उधर भटकना पड़ रहा है।

टीकमगढ़/कुंडेश्वर. ग्राम पंचायत मिनौरा में डेढ़ वर्ष से अधिक समय से बंद पड़ी नलजल योजना के कारण लोगों को पानी के लिए इधर उधर भटकना पड़ रहा है। मिनौरा में इन दिनों पानी को लेकर हाहाकार मचा हुआ है। लोगों को कई किलोमीटर दूर से पानी ढोना पड़ रहा है। ग्राम के सरपंच और सचिव ग्रामीणों की मुख्य समस्या पेयजल की ओर कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं। वहीं ग्रामीणों का कहना है कि अगर इस समस्या का हल नहीं हुआ तो वह उग्र आंदोलन के लिए मजबूर होंगे।
ग्राम मिनौरा में इन दिनों पानी को लेकर हाहाकार मचा हुआ है। यहां के सरपंच और सचिव इस समस्या के प्रति गंभीर नहीं हैं। यहां की नल जल योजना करीब डेढ़ वर्ष से अधिक समय से बंद पड़ी है जिससे यहां के लोगों को गांव से बाहर खेतों व अन्य जगह से पानी का इंतजाम करना पड़ रहा है। यहां के वासियों को पीने के पानी के साथ ही निस्तार के पानी का भी काफी दूर से इंतजाम करना पड़ रहा है। ग्राम मिनौरा निवासी मोटर साइकिल, साइकिल से पुरुष पानी ढो कर अपने घर ला रहे हैं, वहीं महिलाएं कई किलोमीटर पैदल चल कर पानी लाती हैं। ग्रामीण देवी दुवे, संतराम अहिरवार, राजेंद्र सिंह, अरविन्द अहिरवार सहित अनेक ग्रामीणों ने बताया कि अगर इस समस्या का जल्द ही निदान नहीं हुआ तो वह उग्र आंदोलन के लिए मजबूर होंगे।

इंतजाम पूरा होने के बाद भी नहीं हो रहा पानी सप्लाई
नल जल योजना के लिए विद्युत मोटर, बोरिंग और विद्युत कनेक्शन व पाइप लाइन का होना आवश्यक है। इन तमाम इंतजामों बावजूद यहां की नलजल योजना पूरी तरह ठप पडी हुई है।

असरदार लोग पंप चला कर भरते हैं पानी
कुछ ग्रामीणों की मानें तो यहां लगे नल जल योजना के विद्युत पंप को कुछ असरदार लोग चला कर अपने घर का पानी भर कर बंद कर देते हैं। जितने समय वह अपने घर का पानी भरते हैं उतने समय तक उस बोरिंग से पानी नीचे गिरकर बर्बाद होते रहता है।

 

शो पीस बनी पानी की टंकी
ग्राम पंचायत मिनौरा के द्वारा हरिजन बस्ती मोहल्ले में मिशन भागीरथी के अंतर्गत एक पानी की टंकी का निर्माण कराया गया था। पानी की टंकी का निर्माण तो कराया गया लेकिन इस टंकी में पानी कहां से आए इसकी व्यवस्था पंचायत द्वारा नहीं की गई। इसके चलते यह पानी की टंकी शोपीस बन कर रह गई है। मोहल्लेवासी लाली, इमरत, कौशल्या, गुड्डी वंशकार, ज्ञान, मुकेश आदिवासी, राकेश, बाबू बंशकार, छिद्धू सहित अनेक लोगों ने बताया कि पंचायत द्वारा इस मोहल्ले की उपेक्षा की जा रही है। यहां के निवासियों को पीने के लिए पानी नसीब नहीं हो रहा है।

एक किलोमीटर दूर किसानों के कुएं से लाते हैं पानी
पूरे मिनौरा गांव में पानी का संकट है लेकिन हरिजन बस्ती महुआ मैदान के पास नया पंचायत भवन वाले मोहल्ले के लोगों को कुछ ज्यादा ही पानी के लिए परेशान होना पड़ रहा है। इस मोहल्ले के लोग दो किलोमीटर दूर कुएं से पानी लाने को मजबूर हैं। दो दर्जन से अधिक परिवार पानी के लिए तरस रहे हैं। इसके बावजूद भी ग्राम पंचायत के सरपंच एवं सचिव इस ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं। मोहल्ले वासियों ने शासन प्रशासन से पानी का इंतजाम करने की मांग की है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned