खेतों में बिछी ओलों की चादर, तूफान व बारिश ने बरपाया कहर

खेतों में बिछी ओलों की चादर, तूफान व बारिश ने बरपाया कहर

 

By: pawan sharma

Published: 17 Nov 2020, 01:47 PM IST

टोंक. जिले में रविवार शाम आई बरसात (मावठ) ने फसलों को जीवनदान दिया है। वहीं कई स्थानों पर बैर से बड़े आकार के ओले गिए हैं। बनेठा व बमोर गांव समेत कई गांवों के खेतों में ओलो की परत जम गई। इससे पहले चले अंधड़ से काफी नुकसान भी हुआ है। बमोर गांव में कई मकानों पर लगे टीन शेड व छप्पर उड़ गए। लोगों को सर्दी के बीच बरसात में परेशान होना पड़ा। वहीं बरसात से फसलों में फायदा हुआ है।

अच्छी बरसात खुश नजर आए किसान

टोडारायसिंह. टोडारायसिंह कस्बे समेत क्षेत्र में सोमवार को तेज हवाओं के सात करीब एक घण्टे बरसात हुई। इंद्रदेव की मेहरबानी के बीच किसानों के चेहरों पर रौनक लौट आई। बारिश से कस्बे में एक से डेढ़ फीट पानी बहा निकला। रूठे राज (प्रशासन) के बीच दीपावली पर उपखण्ड क्षेत्र में इन्द्रदेव मेहरबान रहा। कस्बे समेत आस पास क्षेत्र में करीब एक घण्टे हुई अच्छी बरसात से किसान खुश नजर आए।

उल्लेखनीय है कि बीसलपुर बांध में पर्याप्त पानी होने के बावजूद आगामी जुलाई 2021 को ध्यान में रखते हुए प्रशासन बांध की दायी व बायी मुख्य नहर में पानी छोडऩे को तैयार नहीं है। कस्बे में हुई तेज बरसात से मण्डी परिसर में खुले में पड़ा अनाज व अन्य कृषि जिंसो की बोरिया भीग गई।प्लेट फार्म का निर्माण व छाया की व्यवस्था नहीं होने से मण्डी में कार्यरत करीब तीन दर्जन से अधिक व्यापारियों के खरीदी गई जौ, चना, मक्का व बाजरा समेत सरसो व अन्य कृषि जिंसो की खुले में पड़ी बोरिया भीग गई है।

बारिश के साथ गिरे ओले
पचेवर. क्षेत्र में रविवार दोपहर बारिश के साथ ओले गिरे। बारिश मावठ होने से क्षेत्र के किसानों के चहरे खिल गए। कस्बे सहित नगर, आवड़ा, पारली में अच्छी बारिश हुई। राजपुरा,किरावल में बेर के आकार के ओले गिरे। बारिश होने से चना,सरसों की फसल को जीवनदान मिल गया।


ओले गिरे, सरसों में खराबा
मालपुरा. उपखण्ड क्षेत्र के लगभग एक दर्जन से ज्यादा गांवों में रविवार शाम अचानक मौसम में बदलाव के साथ ही तेज हवाओं के साथ ओलावृष्टि होने से सरसों की फसल में हुआ नुकसान। क्षेत्र के बावडी सोडा, चौसला, सीतारामपुरा, चैनपुरा, चावण्डिया, अजमेरी, गरजेडा, अरण्यिा, आवडा, कुराड गांवो में अचानक तेज हवाओं के साथ ओले गिरने से खेतों में खड़ी सरसों की फसल काफी नुकसान हुआ, जिससे किसानो के चेहरो पर मायूसी छा गई।

आकाशीय बिजली गिरी
निवाई. ग्राम पंचायत सिंदरा में रविवार देर शाम बादलों की तेज गर्जना के साथ आकाशीय बिजली गिर गई। ग्रामीण रामकल्याण कुमावत, मुकेश कुमावत, शिवदयाल वर्मा, बृजमोहन शर्मा एवं रतन लाल सेन सहित कई ग्रामीणों ने बताया कि रविवार को दोपहर बाद बादलों की गर्जना के साथ बारिश हुई, जिसके दौरान शाम को भौम्याजी के मंदिर के पास एक नीम के पेड़ में तेज गर्जना के साथ अकाशीय बिजली गिर गई, जिसके तेज धमाके से ग्रामीणों में दहशत हो गई। इसी प्रकार निवाई शहर व ग्रामीण क्षेत्र में भी रविवार शाम तेज हवा व गर्जना के साथ बारिश होने से किसानों के चेहरें खिल उठे। रविवार की सुबह से ही आकाश में हल्के बादल छाए रहे। इसी प्रकार वनस्थली क्षेत्र के चतर्भुजपुरा ,जौधपुरिया,सुनारा, हनुतिया, हिंगोटिया,सुरजपुरा, रामपुरा, सहित क्षेत्र के ग्रामीण क्षेत्रो मे अचानक मौसम के मिजाज के बदलने से किसानों के लिए अमृत रूपी मावठ की बारिश हुई। अलीगढ़. कस्बे में भी रविवार शाम बारिश होने से मुख्य बाजार सहित गली-मोहल्लों में तेज गति पानी बह गया, जिससे मौसम में सर्दी बढ़ गई। बारिश से फसलों को फिर से जीवनदान मिलने से किसानों के चेहरो पर फिर से रौनक दिखी।


टोंक(देवली). क्षेत्र में रविवार को बारिश ने किसानों को दिवाली का एक तरह से तोहफा दे दिया। इंद्रदेव की मेहरबानी से हुई मावठ की बारिश से किसानों के चेहरे पर मुस्कान आ गई। वहीं रघुनाथपूरा, तितरिया, नासिरदा, रतनपुरा गांव में बारिश के साथ चने के आकार के ओले भी गिरे है। क्षेत्र में ज्यादातर सरसों एवं चने की फसल बोई गई है, वही गेहंू की बुवाई को लेकर किसान तैयारी में जुटे हुए है। सोंप कस्बे सहित क्षेत्र के विभिन्न गांवों में कहीं तेज तो कहीं मध्यम दर्जे की बरसात हुई। बारिश के बाद सोमवार को किसान खेतों में जुटे नजर आए। बारिश होने से किसानों के खेतों में बोई गई चना, सरसों, मसूर आदि की फसलों में इस बारिश ने अमृत का काम किया है।

latest weather update
Show More
pawan sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned