Devouthani Ekadashi

देवउठानी एकादशी

Devouthani Ekadashi

विवरण :

देवोत्थान एकादशी कार्तिक, शुक्ल पक्ष की एकादशी को कहते हैं। दीपावली के बाद आने वाली एकादशी को ही देवोत्थान एकादशी अथवा देवउठान एकादशी या 'प्रबोधिनी एकादशी' कहा जाता है। आषाढ़ महीने में शुक्ल पक्ष की एकादशी की तिथि को सभी देवता शयन करते हैं और इस कार्तिक, शुक्ल पक्ष की एकादशी के दिन ही उठते हैं। विष्णु जी के शयन काल के चार मासों में विवाहादि मांगलिक कार्यों का आयोजन करना निषेध है। हरि के जागने के बाद ही इस एकादशी से सभी शुभ तथा मांगलिक कार्य शुरू किए जाते हैं। इसीलिए कार्तिक शुकल पक्ष की एकादशी को देवोत्थानी (देवताओं के जागने की एकादशी) कहा गया है।

Devouthani Ekadashi : Devouthani Ekadashi 2017

Prabodhini Ekadashi : Prabodhini Ekadashi 2017

Devouthani Ekadashi coming after Diwali : Devouthani Ekadashi coming after Diwali 2017

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK