एनीकट से प्राकृतिक स्वरूप नहीं बिगड़े आयड़ का, चौपाल में जनता ने जोश से दिए सुझाव

एनीकट से प्राकृतिक स्वरूप नहीं बिगड़े आयड़ का, चौपाल में जनता ने जोश से दिए सुझाव

Mukesh Hingar | Publish: Nov, 19 2017 05:30:03 PM (IST) Udaipur, Rajasthan, India

उदयपुर. आयड़ के सफाई अभियान के प्रति जन जागरण और आमजन के सुझाव शामिल करने के लिए शनिवार रात को लगी दूसरी चौपाल में लोगों ने उत्साह के साथ सुझाव दिए।

उदयपुर . आयड़ के सफाई अभियान के प्रति जन जागरण और आमजन के सुझाव शामिल करने के लिए शनिवार रात को लगी दूसरी चौपाल में लोगों ने उत्साह के साथ सुझाव दिए। कुछ विशेषों ने कहा कि आयड़ में एनीकट बनाकर उसके प्राकृतिक स्वरूप को नुकसान नहीं हो, इसका पूरा ख्याल रखा जाए।
यूआईटी व नगर निगम की ओर से सीपीएस पुलिया और आयड़ लेकसिटी मॉल के पास रात्रि चौपाल हुई। सीपीएस पुलिया पर रिटायर्ड इंजीनियरों का सुझाव था कि एनीकट बनाने से इसके प्राकृतिक स्वरूप को नुकसान नहीं हो तथा भरे पानी से होने वाले दूसरे प्रभाव पर भी विचार हो ताकि आगे परेशानी न हो।

 

यूआईटी व निगम ने स्पष्ट किया कि यह सारा कार्य सिंचाई विभाग करेगा जिससे पूरी तकनीकी राय और निर्णय उनके ही होंगे। चौपाल में महापौर चन्द्रसिंह कोठारी व यूआईटी चेयरमैन रवीन्द्र श्रीमाली ने लोगों को आयड़ को स्वच्छ रखने की प्रतिज्ञा दिलाई। इस मौके पर यूआईटी सचिव रामनिवास मेहता, नगर निगम आयुक्त ओपी बुनकर, आयड़ के नोडल ऑफिसर मुकेश पुजारी, मनोहर चौधरी आदि उपस्थित थे।

 

READ MORE: पानी की कमी नहीं फिर भी यहां आधा दर्जन पंचायतों के खेत सूखे, आखिर क्या है ये माजरा ?


आज यहां चौपाल
- शाम 5 से 6.30 बजे : पासपोर्ट कार्यालय के पास, सुभाषनगर
- शाम 6 से 7 बजे : डोरेनगर गजेन्द्र सामुदायिक भवन में
- शाम 7 से रात 8 बजे : महाराणा प्रताप रेलवे कॉलोनी।


आयड़ के लिए लोगों के सुझाव
- बेकनी पुलिया के पास होटल और आगे डेयरी वाले नदी में गन्दगी डालते है,ं उस पर तत्काल रोक लगाई जाए।

 

READ MORE: उदयपुर में इन मामलों पर अदालत ने दी उपभोक्ताओं को राहत, इतनी राशि चुकाने के दिए आदेश


- देवाली में एक मकान का सीवरेज नदी में गिर रहा है उसे तथा अन्य गंदे नालों को भी रोकें।
- श्मशान में अंतिम संस्कार के दौरान कफन, कपड़े व माला नदी में डालने को लेकर भी कुछ सकारात्मक प्रयास किए जाए।
- मेडिकल से जुड़े लोग अवधिपार दवाइयों को नदी पेटे में डाल रहे हैं, उसे रोके तथा उन पर निगरानी रख सख्त कार्रवाई की जाएं।
- खुले में शौच की प्रवृत्ति को भी रोकें।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned