उदयपुर बार एसोसिशन की कार्यकारिणी में पद नहीं मिलने से खफा एक महिला अधिवक्ता ने किया ऐसा घिनौना काम, जिसने भी सुना हैरान रह गया

उदयपुर बार एसोसिशन की कार्यकारिणी में पद नहीं मिलने से खफा एक महिला अधिवक्ता ने किया ऐसा घिनौना काम, जिसने भी सुना हैरान रह गया

Mukesh Hingar | Publish: Jan, 07 2018 12:25:02 PM (IST) Udaipur, Rajasthan, India

उदयपुर .बार एसोसिशन की कार्यकारिणी में पद नहीं मिलने से खफा एक महिला अधिवक्ता ने अध्यक्ष की पुत्री के अपहरण का प्रयास किया।

उदयपुर . बार एसोसिशन की कार्यकारिणी में पद नहीं मिलने से खफा एक महिला अधिवक्ता ने सारी हदें पार करते हुए समारोह समाप्ति के बाद बार अध्यक्ष की पुत्री के अपहरण का प्रयास किया। साथी अधिवक्ताओं की नजर पड़ते ही उन्होंने पुत्री को मुक्त करवाया।

 

घटना के बाद आक्रोशित अधिवक्ताओं ने अपहर्ताओं के साथ मारपीट कर उनकी कार के शीशे फोड़ दिए।
अधिवक्ताओं ने घटनाक्रम को कैमरे में कैद कर रहे मीडियाकर्मियों, आमजन एवं पुलिस से बदतमीजी करते हुए हंगामा किया। पुलिस अधिकारियों ने समझाइश कर अधिवक्ताओं को शांत किया। भूपालपुरा थाना पुलिस ने बार अध्यक्ष हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी सेक्टर-14 निवासी रामकृपा शर्मा की रिपोर्ट पर आरोपित महिला अधिवक्ता संगीता अरोड़ा, रतनचंद जैन के विरुद्ध अपहरण व लूट का मामला दर्ज कर दोनों को गिरफ्तार किया।

 


आरोपित महिला अधिवक्ता निलंबित
घटनाक्रम के बाद बार एसोसिएशन की नई व पुरानी कार्यकारिणी की तत्काल प्रभाव से आपात बैठक हुई जिसमें सर्वसम्मति से निर्णय लेते हुए अरोड़ा की बार की सदस्यता समाप्त कर उसे निलंबित कर दिया।

 

बच्ची ने रोते हुए पिता को बताई घटना

घटना के बाद पुत्री ने पिता रामकृपा को रोते हुए पूरा घटनाक्रम बताते हुए कहा ‘इसके बाप से लाखों रुपए लेकर ही इसे छोड़ेंगे अन्यथा इसे जान से खत्म कर देंगे।’ बच्ची की बात सुनते ही सभी के होश उड़ गए। वे दौडकऱ आरोपितों तक पहुंचे। उन्होंने संगीता व रतनचंद जैन को पकडकऱ धुनाई कर दी तथा उनकी कार के शीशे फोड़ दिए। पुलिस के आने से पहले उन्होंने संगीता को लाइब्रेरी में बंद कर दिया।

 

मीडियाकर्मियों का कैमरा पकड़ा, मारपीट भी की
मौके पर पहुंचे मीडियाकर्मियों के साथ अधिवक्ताओं ने बदतमीजी की। उन्होंने कैमरे छीनने के प्रयास किए। एक चैनल के कैमरामेन के साथ मारपीट की। इस संबंध में चैनल के प्रतिनिधि ने दो नामजद अधिवक्ताओं सहित 15-20 के खिलाफ मारपीट, कैमरा छीनने के प्रयास का मामला दर्ज किया।

 


थानाधिकारी से भी अभद्रता, वीडिया डिलीट
न्यायालय परिसर में घटनाक्रम के दौरान वीडियो रिकॉर्डिंग कर एक थानाधिकारी को अधिवक्ताओं ने पकड़ लिया। अधिवक्ताओं ने उनसे मोबाइल छीनकर रिकॉर्डिंग डिलीट कर दी। उसी वक्त सभी अधिकारी मौके पर पहुंचे। महिला कांस्टेबल के जाप्ते ने लाइब्रेरी में बंद आरोपित संगीता अरोड़ा को बाहर निकाला।

 

 

सहवृत सदस्य नहीं बनाने पर पहले दी धमकी

बार अध्यक्ष ने रिपोर्ट में बताया कि अध्यक्ष बनने के बाद मुझे, पूर्व अध्यक्ष महेन्द्र नागदा व साथी अधिवक्ताओं पर अधिवक्ता संगीता अरोड़ा सहवृत्त सदस्य बनाने पर दबाव डाल रही थी। ऐसा नहीं करने पर उसने धमकी भी दी कि ‘मैं क्या करती हूं’ फिर भी मैंने इसकी बात को सहन किया। शपथ ग्रहण समारोह में मेरी दस वर्षीय पुत्री भी पत्नी के साथ आई थी। समारोह के बाद अधिवक्ता संगीता मेरी पुत्री को बहला-फुसलाकर तहसील कार्यालय तक ले गई।

 

वहां पहले से मौजूद साथियों की मदद से उसे जबरन कार में बिठाने लगी। बच्ची चिल्लाई तो आरोपितों ने उसे जबरन कार में खींचने का प्रयास किया। इस पर अधिवक्ता सोहनङ्क्षसह, सुरेश प्रजापत, नितिश पुरोहित, मुकुल मेहता, दिनेश कुमार विश्नोई व अन्य व्यक्ति वहां पहुंच गए और उसे चंगुल से छुड़वाया।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned